राष्ट्रीय

4 सोलर पैनल के साथ इसरो ने जीएसएलवी-एफ11/जीसैट-7 ए को किया लॉन्च

यह सैटलाइट भारतीय वायुसेना के लिए बहुत खास

श्रीहरिकोटा। इंडियन स्पेस रिसर्च ऑर्गनाइजेशन (इसरो) ने अपने कम्युनिकेशन सैटलाइट जीएसएलवी-एफ11/जीसैट-7 ए को लॉन्च कर दिया गया है। यह सैटलाइट भारतीय वायुसेना के लिए बहुत खास है।

इस सैटलाइट की लागत 500-800 करोड़ रुपये बताई जा रही है। इसमें 4 सोलर पैनल लगाए गए हैं, जिनके जरिए करीब 3.3 किलोवॉट बिजली पैदा की जा सकती है। इसके साथ ही इसमें कक्षा में आगे-पीछे जाने या ऊपर जाने के लिए बाई-प्रोपेलैंट का केमिकल प्रोपल्शन सिस्टम भी दिया गया है।

इससे पहले 29 सितंबर 2013 में रुक्मिणि सैटेलाइट को किया गया था लॉन्च

Gsat-7A से पहले इसरो Gsat-7 सैटलाइट जिसे ‘रुक्मिणि’ के नाम से जाना जाता है, भी लॉन्च कर चुका है। इसका लॉन्च 29 सितंबर 2013 में किया गया था और यह भारतीय नौसेना के लिए तैयार किया गया था।

यह सैटलाइट नेवी के युद्धक जहाजों, पनडुब्बियों और वायुयानों को संचार की सुविधाएं प्रदान करता है। माना जा रहा है कि आने वाले कुछ सालों में भारतीय वायुसेना को एक और सैटलाइट Gsat-7C मिल सकता है, जिससे इसके ऑपरेशनल आधारित नेटवर्क में और ज्याद बढ़ोतरी होगी।

Tags
Back to top button