डेढ़ दर्जन मौतों के बाद सरकार द्वारा डेंगू को महामारी घोषित करना दुर्भाग्यजनक : कांग्रेस

डेढ़ दर्जन मौतों के बाद सरकार द्वारा डेंगू को महामारी घोषित करना दुर्भाग्यजनक : कांग्रेस

रायपुर : प्रदेश कांग्रेस कमेटी के प्रवक्ता मो. असलम ने कहा है कि समूचे राज्य में डेंगू का ना रोग नियंत्रित हो रहा है ना ही मौतों का सिलसिला थम रहा है। अब सरकार ने खुद ही यह स्वीकार कर लिया है और घोषित कर दिया गया है कि डेंगू ने महामारी का रूप ले लिया है, इससे जाहिर है कि इस रोग ने राज्य में और खास तौर पर दुर्ग-भिलाई में जबरदस्त पैठ बना ली है। सरकार के किसी भी मंत्री ने विशेषकर स्वास्थ्य मंत्री द्वारा इसे गंभीरता से नहीं लिया जाना दुखःद है।

आज तक मृतकों के परिजनों, बिमारों और रोग से जूझ रहे परिवारजनों से हालचाल जानने की कोशिश नहीं करना यही दर्शाता है कि रोग को नियंत्रित करने एवं रोगियों की पीड़ा से उन्हें तथा उनकी सरकार को कोई सरोकार नहीं है। उन्होंने कहा कि डेंगू से पीड़ित रोग में दुर्ग-भिलाई इलाके से डेढ़ दर्जन लोगों की मौत होना बेहद गंभीर है। सरकार द्वारा महामारी घोषित करने के बाद भी कोई ठोस एवं कारगर कदम नहीं उठाया जा रहा है। पीड़ितों को मौत के मुंह से निकालने में हो रही ढिलाई और लापरवाही स्पष्ट देखी जा सकती है। केवल समीक्षा बैठकों का दौर जारी और जनजागरण तथा एंटी लार्वा का छिड़काव कर, सरकार रोग को काबू करने का दावा कर रही है किन्तु मरीज और परिवारजन दशहत में है।

अब रायपुर के लोगों को भी यह घबराहट सता रही है कि महज 30 किलोमीटर दूर जब यह रोग महामारी का रूप ले सकती है तो कहीं यह रोग दबे पांव रायपुर में भी प्रवेश न कर ले। प्रदेश कांग्रेस कमेटी के प्रवक्ता मो. असलम ने डेंगू से हुई मौतों के लिए सरकार एवं प्रशासन को जिम्मेदार ठहराया है और कहा है कि डेंगू जैसे रोग से लोगों की मौत होना लापरवाही और अदूरदर्शिता का परिचायक है, जो कदम अभी उठाया जा रहा है उसे सक्रियता से मौतों का सिलसिला प्रारंभ होने के पहले भी उठाया जा सकता था और लोगों की जान बचाई जा सकती थी। परंतु ऐसा नहीं हुआ और डेढ़ दर्जन मौत के बाद सरकार का जागना और महामारी घोषित करना दुर्भाग्यजनक है।

Tags
Back to top button