टेक्नोलॉजी

खाना पहुंचाने में मदद करेगा इटालियन डिलीवरी ड्रोन

दुनिया के कुछ हिस्सों में अब तक डिलीवरी ड्रोन्स से कुछ किलोमीटर की दूरी तक पार्सल्स पहुंचाए जाते हैं

खाना पहुंचाने में मदद करेगा इटालियन डिलीवरी ड्रोन

जालंधर: दुनिया के कुछ हिस्सों में अब तक डिलीवरी ड्रोन्स से कुछ किलोमीटर की दूरी तक पार्सल्स पहुंचाए जाते हैं। लेकिन जल्द ही इन्हें लम्बी दूरी तक खाना डिलीवर करने के लिए भी उपयोग में लाया जाएगा।

इटली की सैल्फ ड्राइविंग रोबोट निर्माता कम्पनी ई-नोविया ने YAPE नामक इस डिलीवरी ड्रोन को बनाया है जो एक चार्ज में 80 किलोमीटर तक का रास्ता तय कर खाने की डिलीवर करने में मदद करेगा।

यह बैटरी पर काम करेगा यानी इसे चलाने के लिए किसी भी तरह के ईंधन की जरूरत नहीं होगी और इससे प्रदूषण भी नहीं होगा। कम्पनी ने बताया है कि खाने को इसके सेफ कन्टेनर में रखने के बाद यह ऑटोमैटिकली आपके घर तक खाना पहुंचा देगा और कन्टेंनर में से खाने को निकालने के बाद यह ऑटोमैटिकली उसी जगह पहुंच जाएगा जहां से इसे भेजा गया था।

अपने आप पार करेगा रूकावटें

इस इटालियन डिलीवरी ड्रोन में GPS, वीडियो कैमरा और रेंज फाइंडिंग लेजर्स लगी हैं जो शहर व गलियों में किसी भी तरह की रुकावट जैसे गड्ढे और पैदल चलने वाले लोगों आदि को पार कर इसे आगे बढ़ने में मदद करती है।

ट्रैफिक लाइट्स को करेगा मॉनीटर

येप डिलीवरी ड्रोन में वायरलैसली असैसिस सैंसर्स लगे हैं जो ट्रैफिक लाइट्स के सिगनल का पता लगाने में मदद करते हैं। इसके अलावा यह सैंसर्स यातायात प्रवाह यानी सड़क पर चल रहे लोगों का पता लगाते हैं और किसी के भी रास्ते में आने पर रोबोट को रुकने की हिदायत देते हैं।

70 किलो वजन कैरी करने की क्षमता

हैरानी की बात तो यह है कि यह छोटा सा डिलीवरी ड्रोन 70 किलोग्राम वजन को कैरी कर सकता है। जो अपने आप में ही एक बड़ी बात है। इसमें दी गई स्पेस में खाना रखने के बाद जब यह ड्रोन मालिक तक पहुंचेगा तो खास एप के जरिए इसे ओपन किया जा सकेगा। इसे काफी सेफ माना जा रहा है क्योंकि यह फुटपाथ पर चलेगा और इससे किसी को भी कोई परेशानी नहीं होगी।

20 km/h की रफ्तार

यह जरूरत के मुताबिक 6 किलोमीटर से 20 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार पर चलेगा। घर पहुंचने के बाद यह डिलीवरी ड्रोन फेशियर रिकोगनिशन तकनीक से यूजर के चहरे को स्कैन करेगा और अपने YAPE डिलीवरी सिस्टम के डाटाबेस से चैक करेगा। जिसके बाद इसका कार्गो ओपन हो जाएगा और यूजर अपने खाने को निकाल लेगा।

सफल रहा टैस्ट

इस डिलीवरी रोबोट इटली के एक शहर क्रीमोना में टैस्ट किया गया है जिसमें कम्पनी को सफलता मिली है। इसे सबसे पहले जनवरी के महीने में लॉस वेगास में आयोजित CES (कंज्यूमर इलैक्ट्रॉनिक शो) में पहली बार लोगों के सामने दिखाया जाएगा।

04 Jun 2020, 7:22 AM (GMT)

India Covid19 Cases Update

226,634 Total
6,363 Deaths
108,450 Recovered

Tags
Back to top button