ITR: आपको भरना होगा कितना टैक्स, ऐसे करें कैल्कुलेट

आयकर रिटर्न भरने में अब डेढ़ महीने से भी कम समय रह गया है. ऐसे में आपको अपना आईटीआर भरने की तैयारी करनी शुरू कर देनी चाहिए. आपको कितना टैक्स भरना होगा, इसका पता आप आसानी से लगा सकते हैं.

आयकर रिटर्न भरने में अब डेढ़ महीने से भी कम समय रह गया है. ऐसे में आपको अपना आईटीआर भरने की तैयारी करनी शुरू कर देनी चाहिए. आपको कितना टैक्स भरना होगा, इसका पता आप आसानी से लगा सकते हैं.

सबसे पहले आपको यह देखना होगा कि आपकी कुल टैक्सेबल इनकम कितनी है. इसके बाद आपकी इनकम किस टैक्स स्लैब में आती है, ये पता करना होगा.

आपकी कुल टैक्सेबल इनकम कितनी है, यह जानने के लिए आपको टैक्स सेविंग्स स्कीम्स में निवेश, एलटीए, घर का किराया और होम लोन की ईएमआई समेत अन्य डिडक्शन को अपनी कमाई में से अलग रख लीजिए. ध्यान रख‍िये इन डिडक्शन के लिए आपको प्रूफ मुहैया कराने होते हैं. इसके बाद देख‍िये कि आपकी टैक्सेबल इनकम किस टैक्स स्लैब में आती है.

वित्तीय वर्ष 2017-18 के लिए आपको 2.5 लाख रुपये की आय पर किसी भी तरह का टैक्स नहीं देना होता है. 2.5 लाख से 5 लाख की इनकम पर आपको 5 फीसदी टैक्स देना होगा. अगर आय 5 से 10 लाख के बीच है, तो 20 फीसदी टैक्स चुकाना होगा. 10 लाख से ऊपर की आय पर 30 फीसदी टैक्स चुकाना होगा.

यहां ये भी याद रख‍िये कि अगर सारे डिडक्शन के बाद आपकी इनकम 3.5 लाख या उससे कम है, तो आपको 2500 रुपये का अलग से फायदा मिलेगा. सेक्शन 87ए के तहत आपको यह टैक्स रिबेट मिलता है.

ऐसे समझें: मान लीजिए आपकी सालाना इनकम सारे डिडक्शन करने के बाद 5 लाख रुपये आती है. ऐसे में आप 2.5 लाख से 5 लाख के टैक्स स्लैब में आएंगे. यहां आप पर 5 फीसदी टैक्स लगना है.

अब टैक्स कैल्कुलेट करने के लिए सबसे पहले आप 5 लाख में से 2.5 लाख रुपये घटा देंगे. क्योंकि 2.5 लाख रुपये तक कोई टैक्स नहीं लगता है. इसका मतलब यह हुआ कि आपको 2.5 लाख रुपये पर 5 फीसदी टैक्स देना होगा. ऐसे में आपको सिर्फ 12500 रुपये टैक्स के तौर पर देने होंगे.

कुल टैक्स देनदारी पर आपको 3 फीसदी एजुकेशन सेस भी देना होगा, तो यह करीब 375 रुपये आता है. इस तरह आपको कुल 12875 रुपये टैक्स के तौर पर देने होंगे.

अक्सर लोग टैक्स कैल्कुलेट करते समय यह गलती करते हैं कि वह 2.5 लाख रुपये तक टैक्स न लगने वाली रकम को घटाते नहीं है और पूरी रकम को टैक्सेबल समझकर कैल्कुलेट करते हैं, जो कि गलत है.

5 लाख की टैक्सेबल इनकम पर आपको 2500 रुपये का टैक्स रिबेट नहीं मिलेगा, क्योंकि यह 3.5 लाख या उससे कम की रकम पर मिलता है.

एक और उदाहरण देख‍िये: मान लीजिए अगर आपकी इनकम 10 लाख रुपये है, तो ऐसे में पहले आप 2.5 लाख रुपये को इसमें से घटा देंगे. 7.5 लाख पूरी इनकम होगी. अब इसमें 2.5 से 5 लाख रुपये पर आप 5 फीसदी इनकम टैक्स कैल्कुलेट करेंगे. यह हुआ 12500 रुपये.

इसके बाद 2.5 लाख रुपये पर 20 फीसदी टैक्स का कैल्कुलेशन होगा, तो 2.5 लाख पर आपको 50 हजार रुपये का टैक्स देना होगा. इसमें 3 फीसदी एजुकेशन सेस (1500 ) जुड़ जाएगा. इससे आपकी कुल देनदारी 51500 रुपये हो जाएगी.

new jindal advt tree advt
Back to top button