J&K: लश्‍कर-ए-तैयबा का आतंकी मुठभेड़ मारा गया, शुजात बुखारी की हत्‍या में शामिल था

वरिष्‍ठ पत्रकार शुजात बुखारी की हत्‍या में शामिल टॉप कमांडर नावीद जट मारा गया है|

बडगाम मुठभेड़ में लश्‍कर का टॉप कमांडर नावीद जट मारा गया है, जिसका सीधा कनेक्‍शन पाकिस्‍तान से है। सुरक्षा बलों ने मुठभेड़ के दौरान 2 आतंकियों को मार गिराया, जिनमें से एक नवीद है।

जम्‍मू एवं कश्‍मीर के बडगाम में एक मुठभेड़ के दौरान बुधवार को सुरक्षा बलों ने लश्‍कर-ए-तैयबा के आतंकी नवीद जट को मार गिराया, जो का ‘मोस्‍ट वांटेड’ आतंकी था और कश्‍मीर के वरिष्‍ठ पत्रकार शुजात बुखारी की हत्‍या में शामिल था।

उसका मारा जाना कश्‍मीर में आतंकियों के खिलाफ मुस्‍तैद सुरक्षा बलों के लिए बड़ी कामयाबी है, जो लगातार उसे घेरने की कोशिश में थे।

सुरक्षा बलों को बडगाम में आतंकी गतिव‍िधियों की सूचना मिली थी, जिसके बाद उन्‍होंने इलाके में दबिश दी और उसे चारों ओर से घेर लिया। इलाके की घेराबंदी कर वहां सर्च ऑपरेशन शुरू किया गया, जिसके बाद आतंकियों ने फायरिंग कर दी।

आतंक‍ियों की ओर से गोलीबारी के बाद सुरक्षा बलों ने भी जवाबी कार्रवाई की और पत्रकार शुजात बुखारी की हत्‍या में शामिल लश्‍कर के ‘मोस्‍ट वांटेड’ आतंकी नवीद को मार गिराया।

जम्‍मू एवं कश्‍मीर के डीजीपी दिलबाग सिंह ने बताया कि मुठभेड़ के दौरान 2 आतंकी मारे गए, जिनमें से एक टॉप लश्‍कर कमांडर नवीद जट था।

उन्‍होंने यह भी कहा कि यह सप्‍ताह बेहद खास रहा, जिसमें सुरक्षा बलों ने कुलगाम, पुलवामा और शोपियां में निर्दोष व मासूम लोगों की मौत के लिए जिम्‍मेदार कई आतंकियों को मार गिराया।

‘राइजिंग कश्मीर’ के संपादक शुजात बुखारी की श्रीनगर में आतंकवादियों ने ईद से पहले 14 जून को गोली मार हत्या कर दी थी। बाद में पुलिस ने इस संबंध में 4 आतंकियों की तस्‍वीर जारी की थी, जिनमें नवीद भी शामिल था।

बुखारी पर उनके दफ्तर के बाहर हमला किया गया था, जिसमें उनके दो अंगरक्षकों की भी जान चली गई थी।

पुलिस सूत्रों के अनुसार, हत्‍याकांड की साजिश पाकिस्‍तान में रची गई थी और नवीद का सीधा संबंध पाकिस्‍तान से पाया गया।

पाकिस्‍तान के मुल्‍तान का रहने वाला नवीद अक्‍टूबर 2012 में जम्‍मू एवं कश्‍मीर के केरन सेक्‍टर के जरिये भारत में दाखिल हुआ था।

उसने 5वीं तक मुंबई हमलों के मास्‍टरमाइंट हाफिज सईद के संगठन जमात-उद-दावा (JuD) द्वारा संचालित मदरसे में पढ़ाई की थी, जिसके बाद उसका नाता पढ़ाई-लिखाई से टूट गया था।

कश्‍मीर में घुसपैठ के बाद उसने यहां कई आतंकी हमलों को अंजाम दिया। शोपियां, त्राल, कुलगाम सहित दक्षिण कश्‍मीर के कई स्‍थानों पर उसने पुलिस दल पर हमले किए।

उस पर जून 2013 में एक आर्मी कैंम्‍प पर हमले और इससे पहले उसी साल मई में पुलवामा में एक पुलिस अधिकारी की हत्या का आरोप भी है।

<>

 

1
Back to top button