अल्पसंख्यक आयोग की पहल पर जारी आदेश से जैन समाज ने महेन्द्र छाबड़ा का आभार व्यक्त किया

जैन साधु - साध्वियों के विहार हेतु छ.ग. शासन व्दारा आदेश जारी करने पर अल्पसंख्यक आयोग के प्रदेश अध्यक्ष महेन्द्र सिंह छाबडा के अथक प्रयास एंव अनुशंसा से मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के व्दारा यह आदेश जारी किया गया है

रायपुर : जैन साधु – साध्वियों के विहार हेतु छ.ग. शासन व्दारा आदेश जारी करने पर अल्पसंख्यक आयोग के प्रदेश अध्यक्ष महेन्द्र सिंह छाबडा के अथक प्रयास एंव अनुशंसा से  मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के व्दारा यह आदेश जारी किया गया है आपके इस सहयोग हेतु जैन समाज आपको धन्यवाद देता है

यह भी पढ़ें :-कोविड केयर सेंटर डोंगरिया में 29 ऑक्सीजनेटेड बेड सहित कुल 86 बेड उपलब्ध… 

अ.भा. सुधर्म जैन संस्कृति रक्षक संघ के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष प्रेमचंद गोलछा, छ.ग. शाखा अध्यक्ष जेठमल बोहरा , नवयुवक मंडल के राष्ट्रीय अध्यक्ष कमल बोहरा , छ.ग. शाखा के संरक्षक पन्नालाल श्रीश्रीमाल, प्रकाशचंद गोलछा , छ.ग. शाखा के उपाध्यक्ष मगेलाल मालु अहिंसा प्रभारी व सचिव – ट्रस्ट बोर्ड अजय गोलछा , रायपुर संघ के सचिव उत्तमचंद गोलछा सहित कमल चंद मालु , नगीन छाजेड़ , संजय गोलछा , जितेन्द्र गोलछा , सतीश टाटिया , प्रवीण मालु आदि अनेक सदस्यों ने अल्प संख्यक आयोग के अध्यक्ष महेन्द्र सिंह छाबडा को धन्यवाद ज्ञापित करते हुए भविष्य में भी इस तरह की सहयोग की अपेक्षा की है ज्ञातव्य है कि गत वर्ष भी श्री छाबड़ा के प्रयासों से ही करोना एवं लॉकडाउन की विषम परिस्थितियों मे जैन साधु – साध्वी के विहार हेतु सहयोग प्राप्त हुआ था।

ज्ञात हो कि जैन समाज में चातुर्मास का विशेष महत्व है जो इस वर्ष 23 जुलाई से प्रारंभ हो रहा है , वर्तमान में कोरोना की वजह से आंशिक लॉकडाउन की स्थिति निर्मित है जिसके चलते अल्पसंख्यक आयोग के अध्यक्ष महेन्द्र सिंह छाबडा ने चातुर्मास का उल्लेख करते हुए छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश भघेल को पत्र लिखकर जैन साधु साध्वियों के लिए विहार में आवश्यक सहयोग देने का अनुरोध किया था जिसपर शासन ने यह आदेश जारी किया है।

छत्तीसगद शासन सामान्य प्रशासन विभाग द्दारा आज सभी जिलों के कलेक्टर और पुलिस अधीक्षकों को जैन साधु – साध्वियों वं सेवादार को चातुर्मास स्थल तक जून जुलाई माह के पैदल विहार में आवश्यक सहयोग एवं सुरक्षा देने के लिए निर्देश जारी किए हैं

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button