राष्ट्रीय

जैसलमेर:15 परिवारों ने छोड़ा गांव लोक गायक की हत्या के बाद

राजस्थान : राजस्थान के जैसलमेर जिले में एक लोक कलाकार की हत्या के बाद पुलिस में केस दर्ज कराने वाले मंगणियार परिवारों की मुश्किलें बढ़ती जा रही हैं. करीब 15 परिवारों ने दबंगों के डर से गांव से पलायन कर लिया है लेकिन उन्हें अब भी केस वापस लेने की धमकियां मिल रही हैं.
अहमद खां के परिजनों के अनुसार, 27 सितंबर को दांतल गांव में स्थित आईनाथ माता मंदिर में भजन करने गए अहमदखां मंगणियार की संदिग्धावस्था में मौत हो गई थी.

इसके बाद उसके भाई सुगेखां की ओर से पुलिस में आईनाथ माता मंदिर के भोपा रमेशकुमार और उसके दो भाईयों के खिलाफ मारपीट कर उसकी हत्या कर देने का आरोप लगाते हुए मामला दर्ज करवाया. इसके बाद गांव के ही कुछ दबंग लोगों की धमकियां मिलने से डरे सहमे मंगणियार जाति के सभी करीब 15 परिवारों ने अब घरों के ताला जड़ जैसलमेर की ओर पलायन कर लिया है.

भजन पसंद नहीं आया तो पिटाई, हत्या!
अहमद खां की मौत को लेकर दांतल निवासी सुगे खां सहित अन्य परिजनों ने यह आरोप लगाए है कि अहमदखां मंदिर में देवी के भजन करने गया था. वहां मंदिर के भोपा रमेश कुमार सुथार, उसके भाई श्यामलाल और ताराराम सुथार के साथ भजन को लेकर उसके भाई से कहासुनी हो गई थी. इस दौरान तीनों आरोपियों ने मिलकर अहमद खां से मारपीट की थी. अहमद खां ने वहां से भागने की कोशिश भी की लेकिन आरोपियों ने पीछा कर उसे मौत के घाटा उतार दिया.

केस वापस लेने की धमकियां और पलायन
अहमद खां की हत्या के अगले दिन परिजनों ने पुलिस में मारपीट और हत्या का मामला दर्ज करवाया था. इसके बाद से आरोपी तीनों भाइयों और अन्य दबंगों ने अहमद खां के परिजनों पर केस वापस लेने का दबाव बनाया. फोन पर उन्हें ऐसा नहीं करने पर गांव छोडक़र चले जाने में ही भलाई जैसी धमकियां दीं.
जैसलमेर के जिला पुलिस अधीक्षक गौरव यादव ने कहा ‘पीड़ित मंगणियार परिवार के सदस्य तथा अन्य लोग मुझसे मिले थे. मामले में निष्पक्ष जांच कराई जा रही है. गांव में दबंग तत्वों की धमकियों की शिकायत की गई थी, जिसके बाद चार पुलिसकर्मियों को उनकी सुरक्षा में तैनात करने के निर्देश भी दिए गए.’

Summary
Review Date
Reviewed Item
जैसलमेर:
Author Rating
51star1star1star1star1star
Tags

Related Articles

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *