जम्मू-कश्मीर: CRPF कैंप में घुसे दो आतंकी को जवानों ने किया ढेर, 4 जवान शहीद

दोनों ओर से गोलीबारी अभी जारी है

जम्मू-कश्मीर: CRPF कैंप में घुसे दो आतंकी को जवानों ने किया ढेर, 4 जवान शहीद

जम्मू कश्मीर के अवंतीपुरा के लैथापोरा में पुलिस कमांडो ट्रेनिंग सेंटर के पास सीआरपीएफ के ट्रेनिंग सेंटर पर आतंकियों ने फिदायीन हमला कर दिया। इस मुठभेड़ में हमले में सुरक्षा बलों ने दो आतंकियों को मार गिराया है।

हालांकि अभी एक आतंकी के छिपे होने की सूचना है। इस मुठभेड़ में चार जवानों के शहीद होने की भी खबर है। दोनों ओर से गोलीबारी अभी जारी है। जहां आतंकी छुपे हुए हैं, वो चार मंजिला इमारत है। चार मंजिला इमारत में 3 ब्लॉक हैं।

ब्लॉक में टाइप 2 क्वार्टर के पास एक जवान सैफुद्दीन सोज पोजिशिन लिए हुआ था जिसे आतंकियों ने निशाना बनाया। हमले में जवान शहीद हो गया। सूत्रों ने बताया कि दक्षिण कश्मीर के पुलवामा जिले में अवंतीपोरा के लेथपोरा इलाके में 2 से 3 आतंकी कैंप में घुस आए।

इस दौरान आतंकियों ने ग्रेनेड से हमले के बाद भारी फायरिंग शुरू कर दी। सीआरपीएफ शिविर के बाहर आतंकियों ने स्वचालित हथियार और यूबीजीएल ग्रेनेड से हमला किया।

पुलिस सुत्रों के मुताबिक, मौके पर स्थिति से निपटने के लिए भारी पुलिस बल भेज दिया गया है। घायल जवानों को श्रीनगर के अस्पताल में भर्ती कराया गया है। सेना के जवान चारों तरफ से घेरा बनाकर तलाशी अभियान में जुटे हुए हैं।

ये भी पढ़ें- उड़ी और श्रीनगर हमले में शामिल था पुलवामा में मारा गया तीन फीट का आतंकी नूर मोहम्मद तांत्रे

आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद ने इस आत्मघाती हमले की जिम्मेदारी ली है। जैश के प्रवक्ता हसन शाह ने कहा कि 3 फिदायीनों ने नूर त्राली और तलह रशीद की हत्या का बदला लेने के लिए सीआरपीएफ कैंप पर हमला किया।

बता दें कि हमले के बाद पुलवामा जिले में इंटरनेट सेवाएं निलंबित कर दी गई है।

​जैश के तीन फिदायीन आतंकी रात 2 बजकर 10 मिनट पर कैंप में घुसे। आतंकियों ने पहले यहां ग्रेनेड से हमला किया और इसके बाद अधाधुंध फायिरंग शुरू कर दी। सीआरपीएफ जवानों ने जवाबी कार्रवाई की तो आतंकी कैंप में बनी एक इमारत में घुस गए।

जहां आतंकी छुपे हुए हैं, वो चार मंजिला इमारत है। बताया जा रहा है कि आतंकी बिल्डिंग के चौथे फ्लोर पर मौजूद हैं और यहीं से फायरिंग कर रहे हैं। इस बिल्डिंग में सीआरपीएफ सेंटर का एडमिनिस्ट्रेटिव ब्लॉक है और कंट्रोल रूम भी है।

चार मंजिला इमारत में 3 ब्लॉक हैं। बिल्डिंग का पहला ब्लॉक अधिकारियों के आवासीय परिसर के रूप में इस्तेमाल किया जाता है। जबकि दूसरे ब्लॉक में मेन ऑफिस के साथ क्षेत्राधिकारी कार्यालय भी है। आतंकियों ने ब्लॉक नंबर 3 को अपना टारगेट बनाया।

इस ब्लॉक के ग्राउंड फ्लोर पर अस्पताल है, जबकि पहले फ्लोर पर सिग्नल सेंटर, कंट्रोल रूप और स्टोर है। दूसरे और तीसरे फ्लोर खाली हैं। इस ब्लॉक में टाइप 2 क्वार्टर के पास एक जवान सैफुद्दीन सोज पोजिशिन लिए हुआ था जिसे आतंकियों ने निशाना बनाया। हमले में जवान शहीद हो गया। अभी भी आतंकी इसी बिल्डिंग में मौजूद हैं और सुरक्षाबलों ने उन्हें चारों तरफ से घेर लिया है।

advt
Back to top button