जशपुरनगर : जिले में बायोगैस संयंत्र स्थापित होने से ग्रामीणों को सस्ता व साफ ईंधन हो रहा है प्राप्त

संयंत्र की स्थापना से घरेलू महिलाओं को घर में ईंधन की समस्या हुई है दूर

  • घरों में गैस सप्लाई होने से गृहणियों को मिल रही धुएं से मुक्ति, खाना पकाते वक्त रहती है चेहरे पर मुस्कान
  • गम्हरिया गौठान में स्थापित बायोगैस का मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने सराहना करते हुए लिया था चाय का आनंद

जशपुरनगर 31 मई 2021 : कलेक्टर महादेव कावरे एवं मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत के.एस. मण्डावी के के मार्गदर्शन में स्वच्छ भारत मिशन योजनांतर्गत जिले में बायोगैस सयंत्र की स्थापना की जा रही है। प्लांट से मिलने वाली गैस से ग्रामीणों को सस्ता व साफ ईंधन प्राप्त हो रहा है।

स्वच्छ भारत मिशन ग्रामीण अंतर्गत गोवर्धन योजना के तहत् जिले में 65 ग्राम पंचायतों में बायोगैस गैस प्लांट स्थापित किये जाने हेतु स्वीकृति प्रदान की गई है जिसके अंतर्गत 32 ग्राम पंचायतों में बायोगैस प्लांट की स्थापना की जा चुकी है। जहॉ क्रियाशील प्लांट से लगभग 210 घरो में गैस सप्लाई की जा रही है। जिले में स्थापित किए गए 20 क्यूबिक मीटर की क्षमता वाले 30 प्लाट में प्रति प्लांट की लागत राषि 8 लाख 74 हजार 500 रूपए है एवं 10 क्यूबिक मीटर क्षमता वाले स्वीकृत 35 प्लांट में प्रति प्लांट की लागत राषि 4 लाख 38 हजार 900 रूपए है। प्लांट स्थापना के अंतर्गत प्री-फीडबैक टैंक एवं इनलेट व आउटलेट टैंक का निर्माण कार्य षामिल हैै।

यह भी पढ़ें :-छत्तीसगढ़ : नवा रायपुर में बनेगा फूड टेस्टिंग लेबोरेटरी-खाद्य मंत्री भगत

बायोगैस प्लांट स्थापित करने का मुख्य उद्देश्य स्वच्छ रसोई की उपलब्धता के साथ गोबर एवं अन्य जैविक कचरे के उचित निपटान से है, रसोई से निकले वाले जैविक कचरे एव गोबर से स्वच्छ ईधन प्राप्त करना एवं बायोगैस प्लांट से निकली सैलेरी को गुणवत्तापूर्ण जैविक खाद में उपयोग कर जैविक खेती को बढ़ावा देना है। वर्तमान समय में प्रदूषण एवं ईंधन की समस्या विकट है ऐसे में गोबर गैस का उपयोग हमारे पर्यावरण को स्वच्छ रखने और पशुपालन को बढ़ावा देने की दिशा में एक बड़ा कदम हो सकता है।

जिले के गिरांग, डड़गांव, बोकी एवं सुरजुला सहित अन्य पंचायतों में गोबर गैस सयंत्र स्थापित किया गया हैै। गांवो में बायो गैस प्लांट के स्थापित हो जाने से घरेलू महिलाओं की घर में ईंधन की समस्या दूर हुई है साथ ही गोबर गैस का उपयोग बहुत ही सरल व सस्ता है। जिससे उन्हें धुएॅ से भी राहत मिली है। प्रतिदिन 150 किलोग्राम गोबर से लगभग दिनभर के खपत के लिए उन्हें ईंधन प्राप्त हो जाता है। बायोगैस प्लांट की स्थापना से ग्रामीण अंचल में निवासरत महिलाओं एवं लाभार्थी परिवार में बहुत प्रसन्नता व्याप्त है।

उल्लेखनीय है कि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल द्वारा जशपुर जिले के अपने प्रवास के दौरान गम्हरिया गौठान पहुंचकर मस्थापित किए गए बायो गैस सयंत्र का अवलोकन किया था साथ ही समूह की महिलाओं द्वारा गोबर गैस से निर्मित्त चाय का आनंद भी लिया था। चाय की चुस्की लेते हुए बघेल ने गौठान में गोबर्धन योजना के सफल क्रियान्वयन के लिए महिलाओं की प्रशंसा करते हुए उनके कार्यो की सराहना की गई थी एवं उन्हे संयंत्र के संचालन के संबंध में आवश्यक निर्देश दिए थे। मुख्यमंत्री ने महिलाओं को इसी प्रकार और आगे मेहनत करने के लिए प्रोत्साहित भी किया था।

Tags
Back to top button