Uncategorized

जेफार्म सर्विसेज’ को गुजरात के मुख्यमंत्री श्री विजय रुपाणी ने लॉन्च किया

किसान-से-किसान मॉडल (एफ2एफ) - किसान सभी ब्रांड के ट्रैक्टरों और औजारों को किराये पर दे सकते हैं

• ‘जेफार्म सर्विसेज’ ‘- किराये पर ट्रैक्टर और कृषि उपकरण उपलब्धक कराने वाला भारत का प्रमुख प्लेटफॉर्म है
• टैफे की सीएसआर पहल छोटे और सीमांत किसानों की मदद करती है
• किसान-से-किसान मॉडल (एफ2एफ) – किसान सभी ब्रांड के ट्रैक्टरों और औजारों को किराये पर दे सकते हैं
• यह ग्रामीण उद्यमिता के लिए सहायक है और किसानों को अतिरिक्त राजस्व उपलब्धS कराता है

6 सितम्बनर, 2019 | गांधीनगर, गुजरात: भारत भर में किसानों के जीवन को समृद्ध करने के उद्देश्य के साथ माहौल बनाने की सोच से जुड़ी टैफे की ‘जेफार्म सर्विसेज’ एक सीएसआर पहल है। यह पहल गुजरात में राज्ये सरकार के साथ साझेदारी में औपचारिक रूप से श्री विजय रुपाणी, मुख्य मंत्री, गुजरात सरकार द्वारा लॉन्चह की गई। इस अवसर पर श्री नरेन्द्र सिंह तोमर, कृषि एंव किसान कल्यादण मंत्री और ग्रामीण विकास, पंचायती राज मंत्री, भारत सरकार और श्री रणछोड़भाई चानाभाई फल्दू, कृषि, ग्रामीण विकास एवं परिवहन मंत्री, गुजरात सरकार उपस्थिकत थे।

टैफे की जेफार्म सर्विसेज का उद्देश्य छोटे और सीमांत किसानों को ट्रैक्टर और आधुनिक कृषि उपकरणों को किराये पर उपलब्धम कराके कृषि मशीनीकरण से संबंधित समाधानों तक आसान पहुंच बढ़ाना, उनकी उत्पादकता को बढ़ाना और उनकी आय में उल्लेखनीय वृद्धि करना है।

यह अपने किसान-से-किसान (एफ2एफ) रेंटल प्लेटफार्म के जरिये किसानों को मुफ्त में ट्रैक्टर और आधुनिक कृषि मशीनरी हासिल करने की सुविधा देता है। टैफे की जेफार्म सर्विसेज गुजरात सरकार के कृषि विकास अधिकारियों के साथ मिलकर काम करेगी, ताकि प्लेटफॉर्म की विस्तृत पहुंच और सफल क्रियान्वकयन सुनिश्चित किया जा सके।

गुजरात में अधिकांश ग्रामीण लोगों के लिए कृषि प्राथमिक व्यवसाय है। राज्य में लगभग 52% कामकाजी आबादी आजीविका के लिए कृषि पर निर्भर है। इनमें से अधिकांश छोटे या सीमांत किसान हैं, जिसकी वजह से कृषि का मशीनीकरण करके राज्य में प्रगति और उत्पादकता में वृद्धि की काफी संभावनाएं हैं।

सुश्री मल्लिका श्रीनिवासन, चेयरमैन – टैफे, ने कहा कि “भारत छोटे-छोटे खेतों का देश है। हमारे देश में अधिकांश किसानों, लगभग 85% किसानों, के पास अपनी पैदावार और आय में सुधार करने के लिए कृषि मशीनीकरण तक कोई पहुंच नहीं है। जेफार्म सर्विसेज एक सीएसआर पहल है जो जेफार्म सर्विसेज ऐप से सीधे लाभ उठाते हुए, किसानों को अपने ट्रैक्टर और कृषि उपकरणों को किराये पर देने, और इस सेवा की आवश्योकता वाले छोटे किसानों को यह सेवा उपलब्धस कराने की दोनों सुविधाएं प्रदान करता है। हमारा उद्देश्य गुजरात के किसानों तक पहुंचना, देश भर के लाखों किसानों के जीवन में बदलाव लाना और 2022 तक किसानों की आय दोगुनी करने के हमारे माननीय प्रधान मंत्री की सोच को साकार करना है।”

जेफार्म सर्विसेज ऐप कृषि मशीनीकरण से संबंधित समाधानों की तलाश करने वाले किसानों को सीधे ट्रैक्टर और उपकरण मालिकों द्वारा संचालित कस्टम हायरिंग सेंटर (सीएचसी) से जोड़ेगा, जिससे गुणवत्ता, निर्भरता और समय पर डिलिवरी को ध्यान में रखते हुए हुए, निष्पक्ष और पारदर्शी किराये की प्रक्रिया को सुविधाजनक बनाया जा सकेगा। जेफार्म सर्विसेज किसानों और किराएदारों को कृषि उपकरण किराए पर लेने और किराये पर देने की संभावनाओं की एक विस्तृत रेंज प्रदान करती है और उन्हें सीधे बातचीत करने और अपनी–अपनी जरूरतों को पूरा करने के लिए उनको आपस में जोड़ती है। इस अग्रणी प्ले टफॉर्म के साथ, टैफे किसानों की आय को बढ़ावा देने के लिए प्रौद्योगिकी वाली साझा अर्थव्यवस्था के लाभ उपलब्ध् कराता है।

श्री टी. आर. केसवन, ग्रुप प्रेसिडेंट (कॉर्पोरेट रिलेशंस और अलायंस) – टैफे, ने कहा कि “गुजरात सरकार के साथ मिलकर, टैफे ने साझा अर्थव्यवस्था मॉडल के जरिये राज्य में टिकाऊ कृषि उत्पादकता और विकास के लिए जेफार्म सर्विसेज लॉन्च की है। यह पहल छोटे और सीमांत किसानों को कृषि मशीनीकरण उपलब्ध कराने में राज्य का सहयोग करेगी। जेफार्म सर्विसेज पूरी तरह से पारदर्शी है और इसमें कोई भी अदृश्यत शुल्क या कमीशन नहीं लिया जाता है।”

किसान जेफार्म सर्विसेज एंड्रायड ऐप के जरिये या टोल-फ्री हेल्पलाइन 1800-4-200-100 / 1800-208-4242 पर संपर्क करके ट्रैक्टर और उपकरण किराये पर ले सकते हैं। ऐप को कम लागत वाले एंड्रॉइड फोन पर भी इस्तेमाल किया जा सकता है, इसे बहुत कम डेटा पर चलाने के लिए डिजाइन किया गया है और इसे अंग्रेजी और हिन्दीय सहित विभिन्न अन्य क्षेत्रीय भाषाओं में उपयोग में लाया जा सकता है।

जेफार्म सर्विसेज ऐप डिजिटल इंडिया पहल का एक मजबूत एवं शानदार उदाहरण है, जो भारतीय कृषि को लाभ पहुंचाने के लिए तैयार किया गया है। टैफे की यह सेवा भारतीय किसानों के डिजिटल सशक्तिकरण को बढ़ावा देगी और नए ग्रामीण उद्यमियों तथा रोजगार के महत्वपूर्ण अवसरों को सामने लायेगी।

जेफार्म सर्विसेज गुजरात के अलावा, राजस्थान, मध्य प्रदेश, उत्तर प्रदेश, बिहार, ओडिशा, झारखंड, महाराष्ट्र, कर्नाटक, आंध्र प्रदेश, तेलंगाना और तमिलनाडु जैसे राज्यों में मौजूद है और इससे लगभग 314,000 उपयोगकर्ता सीधे लाभान्वित हुए हैं जिसके परिणामस्वरूप कृषि मशीनरी के किराये पर लेने के 825,000 से अधिक घंटे उपयोग में लाये गये हैं। इस तरह, बहुत ही कम समय में जेफार्म सर्विसेज भारत के सबसे बड़े कृषि उपकरण एग्रीगेशन ऑपरेटरों में से एक बन गई है।

Tags
Back to top button