जेट एयरवेज के कर्मचारी ने छत से कूदकर दी जान

बेटा भी करता है इसी एयरलाइन कंपनी में जॉब

मुंबई। अस्थायी रूप से बंद एयरलाइन कंपनी जेट एयरवेज के सीनियर टेक्निशियन ने 4 मंजिला इमारत की छत से कूदकर जान दे दी। कहा जा रहा है कि वह कैंसर की बीमारी और आर्थिक तंगी के चलते बेहद तनाव में थे। 45 साल के शैलेश सिंह ने पालघर के नालासोपारा ईस्ट इलाके में स्थित 4 मंजिला इमारत से कूदकर आत्महत्या कर ली। हाल ही में विमानों का संचालन अस्थायी रूप से ठप करने वाली जेट एयरवेज एयरलाइन के स्टाफ और एंप्लॉयी असोसिएशन के मुताबिक वह आर्थिक संकट से गुजर रहे थे।

बता दें कि जेट एयरवेज के करीब 20,000 एंप्लॉयीज को कई महीनों से सैलरी नहीं मिल सकी है। यही नहीं ऑपरेशंस के लिए भी पूंजी का अभाव होने के चलते कंपनी ने विमानों को भी जमीन पर उतार लिया है। एक पुलिस अधिकारी ने बताया, ‘वह कैंसर से जूझ रहे थे और इन दिनों उनकी कीमोथेरेपी चल रही थी। प्रारंभिक जांच में यह बात सामने आई है कि उन्होंने बीमारी से डिप्रेशन के चलते अपनी जान दे दी।’

इस बीच कंपनी के एंप्लॉयीज और उनके परिवारों ने दिल्ली के जंतर-मंतर पर अपनी पीड़ा को जाहिर करने के लिए कैंडल मार्च भी निकाला है। बता दें कि पिछले दिनों एंप्लॉयीज ने पीएम मोदी से भी दखल देने की मांग करते हुए 20,000 लोगों की नौकरियां बचाने की अपील की थी।

जेट एयरवेज के एंप्लॉयीज ने बताया कि कंपनी का कामकाज बंद होने के बाद यह पहला मामला है, जब किसी कर्मचारी ने अपनी जान दे दी। परिवार में आर्थिक संकट की वजह यह भी थी कि पिता और पुत्र दोनों ही जेट एयरवेज में कार्यरत थे। शैलेश सिंह का बेटा कंपनी के ऑपरेशंस डिपार्टमेंट में काम करता था। शैलेश सिंह अपने पीछे पत्नी, दो बेटों और दो बेटियों को छोड़ गए हैं। पुलिस अधिकारी ने बताया कि दुर्घटनावश मौत का मामला दर्ज कर जांच की जा रही है।

Back to top button