राज्यराष्ट्रीय

जेठमलानी का खुलासा- केजरीवाल के कहने पर अरुण जेटली को कहे थे अपशब्द

राम जेठमलानी ने कहा है कि खुद केजरीवाल ने ही एक नहीं कई बार उन्हें वित्त मंत्री अरुण जेटली के खिलाफ अपशब्द का इस्तेमाल करने को कहा था.दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल पर उनके वकील राम जेठमलानी ने हमला बोला है.

रामजेठमलानी ने दावा किया है कि अरविंद केजरीवाल ने जेटली के खिलाफ और भी ज्यादा अपशब्द का इस्तेमाल करने को कहा था. उन्होंने केजरीवाल को खत लिखकर अपनी फीस की मांग की है.

साथ ही 20 जुलाई को जेठमलानी ने केजरीवाल को खत लिखकर जेटली द्वारा दायर मानहानि के केस को लड़ने से खुद को अलग कर लिया था. हालांकि इससे पहले उन्होंने खुद ही ऐलान किया था कि वह केजरीवाल का केस मुफ्त में लड़ेंगे.

अरविंद केजरीवाल ने कोर्ट में कहा कि उनके वकील ने अपनी तरफ से जेटली के खिलाफ अपशब्द का इस्तेमाल किया है. जिससे जेठमलानी नाराज हो गए.

उन्होंने 20 जुलाई को न सिर्फ अरविंद केजरीवाल को खत लिखा बल्कि उसकी एक कॉपी वित्त मंत्री अरुण जेटली को भी भेज दी. अपने खत में जेठमलानी ने केजरीवाल से कहा है कि जब अरुण जेटली ने मानहानि का पहला केस दर्ज किया था तो आपने मेरी मदद ली.

केजरीवाल ने जेटली पर डीडीसीए घोटाले में शामिल होने का आरोप लगाया था. जिसके बाद जेटली ने उनके खिलाफ मानहानि का केस दर्ज करते हुए 10 करोड़ रुपये की मांग की थी.

20 जुलाई को केजरीवाल को लिखे खत में जेठमलानी ने कहा कि आपने मुझसे सैकड़ों बार कहा कि इस (अपशब्द) को सबक सिखाइए.

केजरीवाल ने बाद में दिल्ली हाई कोर्ट में हलफनामा देकर कहा है कि उन्होंने जेठमलानी को ऐसे किसी अपशब्द के इस्तेमाल की सलाह नहीं दी थी. उन्होंने यह बात जेठमलानी से भी खत के जरिए कही.

केजरीवाल ने इस बात से किया इनकार

केजरीवाल ने अपने हलफनामे में कहा कि यह बात पचने योग्य नहीं है और न ही कोई सोच सकता है कि एक वरिष्ठ वकील को इस तरह के अपशब्द कहने के लिए कोई कहेगा.

दिल्ली के सीएम ने अपने हलफनामे में यह भी कहा कि न तो उन्होंने और न ही उनके वकील (अनुपम श्रीवास्तव) ने वरिष्ठ वकील (जेठमलानी) को अपशब्द का इस्तेमाल करने का निर्देश दिया था.

अपने खत में जेठमलानी ने केजरीवाल से कहा है कि इसे गलत मत समझिए, मैं आपको केस को जारी रखने की सलाह नहीं दे रहा हूं. अगर आप सोचते हैं कि जेटली केस वापस ले लेंगे तो किसी भी तरह उनसे सुलह कर लीजिए.

मैं अंजाम को भुगत लूंगा. एक बात तय है कि अब मैं आपके बचाव में किसी भी मामले में नहीं उतरूंगा. आप सिर्फ पहले वाले मानहानि केस की मेरी फीस जमा कर दीजिए. दूसरे वाले केस का मैं कुछ नहीं लूंगा.

Back to top button