झारखंड सरकार ने लागू लॉकडाउन को 10 जून तक बढ़ाने का लिया फैसला

सरकार ने इस बार स्वास्थ्य सुरक्षा सप्ताह में कुछ छूट देने का फैसला भी लिया

धनबाद:झारखंड सरकार ने सावधानी के तौर पर ‘स्वास्थ्य सुरक्षा सप्ताह’ के नाम से लागू लॉकडाउन को 10 जून तक बढ़ाने का फैसला लिया है. सरकार ने इस बार स्वास्थ्य सुरक्षा सप्ताह में कुछ छूट देने का फैसला भी लिया है.

प्रदेश सरकार के प्रवक्ता ने बताया कि मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन की अध्यक्षता में हुई राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकार की बैठक में लॉकडाउन को एक हफ्तें के लिए आगे बढ़ाकर 10 जून की सुबह छह बजे तक लागू रखने का निर्णय लिया गया. उन्होंने बताया कि प्रदेश में स्वास्थ्य सुरक्षा सप्ताह अब 10 जून की सुबह छह बजे तक प्रभावी रहेगा. इस दौरान प्रदेश में पहले से लागू सभी प्रतिबंध जारी रहेंगे.

स्वास्थ्य सुरक्षा सप्ताह बढ़ाने का लिया फैसला

कोरोना वायरस संक्रमण की चेन को तोड़ने के उद्देश्य से राज्य सरकार ने बीते 22 अप्रैल से स्वास्थ्य सुरक्षा सप्ताह की शुरुआत की थी. जोकि 3 जून तक जारी रहेगी. सीएम हेमंत सोरेन ने बुधवार को आपदा प्रबंधन प्राधिकार की बैठक की अध्यक्षता करते हुए कहा कि प्रदेश में कोरोना संक्रमण के मामले भले ही कम हुए हैं. इसके बावजूद खतरा अभी टला नहीं है.

उन्होंने स्वास्थ्य सुरक्षा सप्ताह को एक हफ्तें को बढ़ाने का फैसला लिया हैं. इसके साथ ही नए लॉकडाउन में जो नई रियायतें दी गई हैं, उसके मुताबिक जिले के अंदर आवागमन के लिए ई-पास की अनिवार्यता को खत्म कर दिया गया है.

प्रदेश के 15 जिलों को खोलने की दी इजाजत

सीएम ने प्रदेश के जिलों में संक्रमण की गंभीरता को देखते हुए वर्गों में बांट कर कम संक्रमण वाले जिलों में कुछ रियायतें देने का निर्णय लिया गया. इसमें प्रदेश के ज्यादा कोरोना संक्रमण वाले जिले रांची, जमशेदपुर, बोकारो, धनबाद, देवघर, हजारीबाग, गढ़वा, गुमला और रामगढ़ में कपड़ा, जेवर और जूता-चप्पल की दुकानें छोड़ कर अन्य सभी दुकानें खुलेंगी. ये दुकानें सुबह छह बजे से दोपहर के दो बजे तक खुल सकेंगी. इसके साथ ही प्रदेश के अन्य 15 जिलों में सभी दुकानों को खोलने की इजाजत दी गई है.

राज्य के सभी जिलों में दुकानें दोपहर 2 बजे तक ही खुली रहेंगी. इसके साथ ही मॉल और मल्टी ब्रांड वाली दुकानें अभी बंद रहेंगी. वहीं शादी समारोह में पहले की तरह ही पांबदी रहेगी और सिर्फ 11 लोग ही शादी में शामिल हो सकेंगे.

सचिव से ऊपर के अधिकारियों को आना होगा अनिवार्य

सीएम ने बैठक में एक बार फिर प्रदेश सरकार के सचिवालय दोपहर दो बजे तक ही खोलने का निर्णय लिया गया. इस दौरान संयुक्त सचिव से ऊपर स्तर के सभी अधिकारियों को अनिवार्य रूप से सचिवालय आना होगा. वहीं मात्र 33 प्रतिशत कर्मचारियों के साथ सचिवालय के विभिन्न विभाग कार्य करेंगे.

झारखंड में कोरोना की स्थिति

अगर देखा जाए तो प्रदेश में कोरोना संक्रमण से मरने वालों और संक्रमित होने वालों की संख्या तेजी से घट रही है. स्वास्थ्य विभाग के आंकड़ों के मुताबिक पिछले चौबीस घंटों में प्रदेश में कोरोना संक्रमण से कुल 14 लोगों की मौत हुई. इसके साथ ही कोरोना से कुल 831 लोग संक्रमित हुए है.

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button