गुजरातराज्य

गुजरात विधानसभा में जिग्नेश का माइक 40 सेकेंड में बंद…

गुजरात की विधानसभा में जिग्नेश मेवाणी को सोमवार को दलित सामाजिक कार्यकर्ता भानुभाई वणकर के केस पर बोलने के लिए सिर्फ 40 सेकेंड मिला | मेवाणी को यह मामला सदन में नहीं उठाने दिया गया|

गुजरात विधानसभा में जिग्नेश का माइक 40 सेकेंड में बंद…

गुजरात की विधानसभा में जिग्नेश मेवाणी को सोमवार को दलित सामाजिक कार्यकर्ता भानुभाई वणकर के केस पर बोलने के लिए सिर्फ 40 सेकेंड मिला | मेवाणी को यह मामला सदन में नहीं उठाने दिया गया|

यह मामला इस समय गुजरात में सुर्खियों में है | मेवाणी सोमवार को विधानसभा में दलित सामाजिक कार्यकर्ता वणकर के केस पर बोल रहे थे | लेकिन गुजरात विधानसभा के अध्यक्ष ने 40 सेकेंड बाद मेवाणी का माइक बंद करने का आदेश दे दिया |

जिग्नेश बोले सरकार के इस कदम से साफ़ जाहिर होता है कि वह इस मामले में किसी भी अधिकारी की जवाबदेही तय नहीं करेगी | मेवाणी ने खुद को बोलने से रोकने के बाद गुजरात सरकार पर आरोप लगाया कि वह दलितों के विरोध में काम कर रही है.

उन्होंने कहा कि थानगढ़ एसआईटी की रिपोर्ट सार्वजनिक की जाए. थानगढ़ में तीन दलित मारे गए थे. उन्होंने कहा कि उनकी जायज मांगें नहीं मानी जा रही हैं.

मेवाणी ने कहा कि पीड़ित परिवार को 8 लाख रुपये देने की घोषणा की गई थी, जो अब तक पूरी नहीं हुई है. मेवाणी ने आरोप लगाया कि सरकार का मानना है कि दलितों को दी जाने वाली जमीन पर दलितों का कोई हक नहीं है.

दलितों को सरकार की ओर से आवंटित जमीन के कब्जे की मांग को लेकर दलित सामाजिक कार्यकर्ता भानुभाई वणकर ने पिछले हफ्ते कलेक्टर ऑफिस में खुद को आग लगा ली थी. बाद में गांधीनगर के अस्पताल में उनका निधन हो गया था.

इसके बाद दलित नेता जिग्नेश मेवानी ने अहमदाबाद बंद का ऐलान किया था. हालांकि, उन्हें पुलिस ने इससे पहले ही हिरासत में ले लिया था.

को आगे बढ़ते नहीं देखना चाहते। लालू यादव के मुख्यमंत्री बनने के बाद से ही बिहार के गरीबों का भला होना शुरू हुआ।

Summary
Review Date
Reviewed Item
गुजरात विधानसभा में जिग्नेश का माइक 40 सेकेंड में बंद...
Author Rating
51star1star1star1star1star
Tags

Related Articles

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *