राष्ट्रीय

जेएनयू हिंसा: वाइस चांसलर को हटाने ‘दिल्‍ली मार्च’, पुलिस ने रोका, सुरक्षा कड़ी

टीम ने मारपीट के समय मौजूद छात्रों और लोगों से बातचीत की

नई दिल्‍ली: जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) में पांच जनवरी को हुई हिंसा के लिए कांग्रेस ने विश्वविद्यालय के कुलपति पर हमला करते हुए उनके स्तीफ़े कि मांग की. पूर्व केंद्रीय मंत्री पी. चिदंबरम ने कहा कि कुलपति को विश्वविद्यालय छोड़ देना चाहिए. उन्होंने कहा, “जेएनयू के कुलपति चाहते हैं कि छात्र अतीत को पीछे छोड़ दें. उन्हें अपनी सलाह माननी चाहिए. वह अतीत हैं. उन्हें जेएनयू छोड़ देना चाहिए.”

वही अब इसी मामले में छात्रों के प्रदर्शन को देखते हुए पुलिस ने सुरक्षा कड़ी कर दी है. अब जेएनयू के वाइस चांसलर जगदीश कुमार को हटाने के लिए छात्र और शिक्षक यूनिवर्सिटी से मंडी हाउस तक ‘दिल्‍ली मार्च’ निकालना चाहते थे. लेकिन जेएनयू के गेट पर पुलिस ने उनको रोक दिया. लेकिन छात्र मार्च निकालने के लिए अड़े हुए हैं.

विरोध-प्रदर्शन के बीच जेएनयू के वाइस चांसलर जगदीश कुमार ने कहा कि यूनिवर्सिटी के हालात सामान्‍य हैं. रविवार को हुई घटना दुर्भाग्‍यपूर्ण है. केंद्र को यूनिवर्सिटी बंद करने का सुझाव नहीं दिया. कुछ प्रदर्शनकारी यूनिवर्सिटी को बंधक नहीं बना सकते. कुछ टीचर्स, छात्र भड़काने का काम कर रहे हैं.

कांग्रेस के एक अन्य वरिष्ठ नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा, “जेएनयू के कुलपति ने परिसर की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए अपनी जिम्मेदारी तक नहीं ली है और अब वह लापता हैं. पुलिस ने छात्रों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की है, जबकि गुंडे परिसर में दंगा करते हैं. लगता है कि कानून-व्यवस्था हमारे अपने लोगों के प्रति असमर्थ है!”

Tags
Back to top button