अंतागढ़ मामले में एसआईटी जांच का जोगी कांग्रेस ने किया स्वागत

जोगी कांग्रेस बोले, इस मामले में करानी चाहिए जांच

रायपुर: अंतागढ़ मामले में एसआईटी जांच पर जोगी कांग्रेस ने कहा कि हम अंतागढ़ मामले में एसआईटी जांच का स्वागत करते है, इस मामले में जांच करानी चाहिए, जो टेप सामने आया था उससे राजनीति उथल पुथल हुई थी.

मंतूराम ने नाम क्यो वापस लिया था उसकी क्या मजबूरी थी ये सब जांच में सामने आना चाहिए. टेप सही है या गलत इसकी जांच की मांग हम भी कर रहे थे. हम तो खुद इस पूरे मामले में जांच की मांग कर रहे थे. निष्पक्ष जांच हो दूध का दूध और पानी का पानी हो जाएगा.

अमित जोगी का बयान

अंतागढ़ से सम्बंधित दोनों टेपों के सम्बंध में मैंने 16 मार्च 2016 को विधान सभा में अपनी बात रखी थी। साथ ही साज़िशकर्ताओं के विरुद्ध आपराधिक मानहानि का न्यायालय में प्रकरण भी दर्ज करा था।

इस सम्बंध में में माननीय ज़िला एवं सत्र न्यायाधीश का 19.09.18 का वो आदेश संलग्न कर रहा हूँ जिस की कंडिका (10) में स्पष्ट रूप से तथाकथित टेप में “कई तरह से लीपा-पोती करने” की बात पाई गई है और जिस आधार पर उसके पुनः जाँच के आदेश दिए गए हैं।

जिन लोगों ने उसे लोकतंत्र की हत्या क़रार देते हुए, उन फ़र्ज़ी टेपों के माध्यम से मेरी और मेरे परिवार की राजनीतिक हत्या की एक सुनियोजित साज़िश रची थी, आज वो सरकार के सर्वोच्च पद पर आसीन हैं।

अमित जोगी की माँग:

-पूरे प्रकरण की SIT अथवा अन्य किसी भी संस्था से निष्पक्ष जाँच एक पीठासीन उच्च न्यायालय के न्यायाधीश की निगरानी में समय बद्ध तरीक़े से होनी चाहिए।

-उपरोक्त जाँच के दायरे में वो 10 बेहद महत्वपूर्ण बिंदु भी सम्मिलित होने चाहिए जिनका मैंने अपने 16 मार्च 2016 भाषण में उल्लेख किया था ताकि दूध का दूध और पानी का पानी हो सके और साज़िशकर्ता बेनक़ाब हो सके। इस बात पर आज भी मैं अडिग हूँ।

1
Back to top button