छत्तीसगढ़

कांग्रेस के 21 विधायकों की मांग पर जोगी बने थे सीएम : पाण्डे

रायपुर : जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) के प्रदेश संगठन महासचिव गौरीशंकर पाण्डे, युवा जनता कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष विनोद तिवारी एवं प्रदेश प्रवक्ता भगवानू नायक ने एक संयुक्त बयान जारी कर कहा कि, 8/09/2000 को छत्तीसगढ़ कांग्रेस पार्टी के 21 आदिवासी विधायकों ने एक नवम्बर 2000 को अस्तित्व में आने वाले नये राज्य छत्तीसगढ़ के प्रथम मुख्यमंत्री किसी आदिवासी को बनाने की मांग पार्टी सुप्रीमों श्रीमती सोनिया गांधी से किया था। इन्हीं विधायकों के पसन्द के कारण श्रीमती गांधी ने अजीत जोगी को छत्तीसगढ़ का प्रथम मुख्यमंत्री बनाया।
उपरोक्त मांग करने वालों में प्रमुख रूप से आदिवासी विधायक माधवसिंह ध्रुव विधायक सिहावा, मनोज मंडावी विधायक भानुप्रतापपुर, गुलाब सिंह विधायक मनेन्द्रगढ़, गोपाल राम विधायक सीतापुर, डोमेन्द्र भेड़िया विधायक डौण्डी लोहारा, श्रीमती प्रतिभा शाह विधायक चित्रकोट, कवासी लखमा विधायक कोन्टा, तुलेश्वर सिंह विधायक प्रेमनगर, झितरू राम बघेल विधायक जगदलपुर, भुरसूराम नाग विधायक केशलूर, मन्तुराम पवार विधायक नारायणपुर थे।
उस दौरान कांग्रेस पार्टी के नेताअरविन्द नेताम एवं मनोज मंडावी को अजीत जोगी सच्चे आदिवासी नेता लगते थे लेकिन जैसे ही छत्तीसगढ़ की राजनीति में बदलाव आया और जोगी कांग्रेस से अलग होकर छत्तीसगढ़ की ढाई करोड़ जनता के हितों की रक्षा करने के लिये जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) का गठन किया और तेजी से कांग्रेस-भाजपा छोड़कर तथा छत्तीसगढ़ की आम जनता का एक जनसैलाब 10 लाख सदस्यों से भी अधिक जोगी के साथ खड़ा हो गया तब इन्हीं नेताओं को  जोगी नकली आदिवासी नजर आने लगे हैं। इनमें से कुछ नेता जो सुर्खियों में आने के लिये प्रेस वार्ता ले रहे हैं तो कोई मुख्यमंत्री के साथ फोटो खिचवा रहे हैं। परन्तु छत्तीसगढ़ की जनता और छत्तीसगढ़ का आदिवासी समाज को  जोगी पर विश्वास है कि प्रदेश में जनता के हितों से जुड़ी हुई मुद्दों की लड़ाई लड़ रहा है और कौन प्रदेश के सबसे बड़े चेहरे को कमजोर करने की नियत से षड़यंत्र की राजनीति कर रहा है।
जोगी आदिवासियों के दिलों में कितना राज करते हैं इसका ज्वलंत उदाहरण आदिवासी वर्ग के लिये सुरक्षित सीट सिहावा विधानसभा में 8 जुलाई को ग्राम आवाज एवं किसान सम्मेलन कार्यक्रम में देखने को मिला जिसमें मरवाही विधायक अमित जोगी की धर्मपत्नी श्रीमती ऋचा जोगी की उपस्थिति में सम्पन्न हुआ जिसमें हजारों आदिवासी भाई-बहनों के विशाल जनसमूह की उपस्थिति ने बता दिया कि  जोगी को कांग्रेस या भाजपा से प्रमाण पत्र की जरूरत नहीं है।

Tags
Back to top button