जोगी ने CM भूपेश को लिखा पत्र, कहा – आउटसोर्सिंग रोकने तत्काल रद्द करें ये आदेश

रायपुर। छत्तीसगढ़ के पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी के बेटे और जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) अध्यक्ष अमित जोगी ने सोमवार को सरकारी विभागों में भर्ती भर्ती नियमों को लेकर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को पत्र लिखा। जोगी ने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को पत्र लिखकर राज्य शासन की भर्ती-नीति में तीन संशोधन करने की माँग की। उन्होंने सरकारी विभागों में भर्ती को लेकर स्थानीय को प्राथमिकता नहीं देने का आरोप लगाया है।

उन्होंने भूपेश बघेल को लिखे पत्र में शासन के उस आदेश को तत्काल निरस्त करने की मांग की, जिसमें सरकारी भर्तियों में छत्तीसगढ़ का निवासी होना अनिवार्य नहीं बताया गया है। उन्होंने कहा कि इस आदेश को रोक कर प्रदेश में नौकरियों में आउटसोर्सिंग रोक लगाई जा सकती है।

जोगी ने भूपेश से की ये तीन मांग

– छत्तीसगढ़ शासन के विभिन्न विभागों द्वारा की जा रही व्यापक भर्तियों में छत्तीसगढ़ का निवासी होना अनिवार्य नहीं है, शर्त को तत्काल निरस्त करें ताकि आउट्सोर्सिंग के नासूर को जड़ रोका जा सके।
– ये शर्त रखी जाए कि समस्त भर्तियों के लिए छत्तीसगढ़ी भाषा अथवा प्रदेश की प्रचलित बोलियों और संस्कृति का सामान्य ज्ञान होना अनिवार्य रहना चाहिए, ताकि प्रदेश के निवासियों को राजस्थान, उड़ीसा, महाराष्ट्र इत्यादि अन्य राज्यों की तर्ज़ पर प्राथमिकता मिल सके।
– भर्तियों का विकेंद्रीकरण करके उसका अधिकार त्रिस्तरीय जिला पंचायत और स्थानीय सरकार के निर्वाचित जनप्रतिनिधियों को दे देना चाहिए।

अमित जोगी ने ये भी जानकारी दी कि आउट्सोर्सिंग बंद करने और स्थानीय लोगों का भविष्य सुरक्षित करने के उपरोक्त आशय का ग़ैर-शासकीय संकल्प इसी सत्र में जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) और बसपा गठबंधन के 7 विधायकों द्वारा विधान सभा में जल्द प्रस्तुत किया जाएगा।

Back to top button