तीनों सेनाओं की संयुक्त प्रेस कॉन्फ्रेंस, कहा – हम पाकिस्तान के किसी भी दुस्साहस का जवाब देने को तैयार

नई दिल्ली: पुलवामा आतंकी हमले के बाद भारत-पाकिस्तान के में जारी तनाव के बीच तीनों सेनाओं ने साझा प्रेस कॉन्फ्रेंस की. एयर वाइस मार्शल आरजीके कपूर ने कहा कि पाक विमानों ने 27 फरवरी को LoC क्रॉस की, जहां, सुखोई, मिराज और मिग-21 विमानों ने उनका रास्ता रोका. उन्होंने कहा कि पाकिस्तान के विमानों ने सैन्य कंपाउंड के पास बम गिराए. हालांकि पाक विमानों की बमबारी में कोई नुकसान नहीं हुआ. भारतीय सेना ने उनका माकूल जवाब दिया.

हम देश को भरोसा दिलाते हैं कि हम पूरी तरह से तैयार हैं. हम पाकिस्तान की किसी भी कोशिश का जवाब देने के लिए पूरी तरह तैयार है. उन्होंने कहा कि पाक ने एफ-16 के इस्तेमाल से भी इनकार किया और बार-बार अपना बयान बदला, लेकिन F-16 का इस्तेमाल किया गया. हमारे पास F-16 के इस्तेमाल के पूरे सबूत हैं. उन्होंने कहा कि पाकिस्तान की तरफ से पहले कहा गया कि 2 पायलट उनकी हिरासत में है. फिर कहा गया एक पायलट उनकी गिरफ्त में है. हमें इस बात की खुशी है कि पाकिस्तान हमारे पायलट को रिहा कर रहा है.

उन्होंने कहा कि हमारे पास बालाकोट को लेकर सबूत है. जो हमारे टारगेट में था, जो हम हासिल करना चाहते थे, हमने किया. यह सरकार के ऊपर है कि वह कब और कैसे इसे जारी करती है. भारत ने इमरॉन मिसाइल के टुकड़े भी जारी किए, जिसे एफ-16 विमान से ही छोड़ा जा सकता है. एमरॉन मिसाइल के टुकड़े राजौरी में मिले.

वहीं, मेजर जनरल सुरेंद्र सिंह महल ने कहा कि पाकिस्तान की तरफ से हमारे सैन्य ठिकानों को निशाना बनाने की कोशिश की गई. पिछले दो दिन में पाकिस्तान की तरफ से कम से 35 बार संघर्ष विराम का उल्लंघन किया गया है. उन्होंने कहा कि भारतीय सेना क्षेत्र में शांति-स्थिरता के लिए प्रतिबद्ध है.

इससे पहले भारतीय पायलट विंग कमांडर अभिनंदन को छोड़ने के लिए पाकिस्तान तैयार हो गया है. पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने वहां की संसद में यह बात कही है. इमरान खान ने कहा कि पाकिस्तान कल भारतीय पायलट अभिनंदन वर्धमान को रिहा करेगा. इमरान खान ने कहा कि शांति के कदम के तौर पर पायलट की रिहाई का कदम उठाया गया है. इमरान खान ने कहा, ‘मैं घोषणा करता हूं कि बातचीत शुरू करने के लिए पहले कदम के तौर पर, पाकिस्तान हिरासत में लिए गए भारतीय वायुसेना के अधिकारी को कल (शुक्रवार) रिहा कर रहा है.’ पाकिस्तानी सांसदों ने मेजें थपथपा कर उनकी इस घोषणा का स्वागत किया. इमरान खान ने कहा कि हमारी कार्रवाई का एकमात्र मकसद हमारी क्षमता और इच्छा का प्रदर्शन करना था. हम भारत में कोई नुकसान नहीं चाहते थे, क्योंकि हम जिम्मेदार तरीके से कार्य करना चाहते हैं.

बता दें कि पाकिस्तान की ओर से बातचीत की पेशकश पर भरत की ओर से यह कहा गया था कि पाकिस्तान पहले कार्रवाई करे और पुख्ता सबूत पेश करे तभी बातचीत की कोई गुंजाइश बन सकती है. इन सब के बीच यह भी खबर आई कि पाकिस्तान के 24 लड़ाकू विमान भारत की सीमा में 10 किलोमीटर अंदर तक दाखिल हो गए थे जिन्हें भारतीय वायुसेना के 8 विमानों ने खदेड़ दिया.

यह भी पढ़ें: अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप का बड़ा बयान: हमारे पास भारत और पाकिस्तान से काफी अच्छी ख़बर

27 फरवरी को भारत और पाकिस्तान दोनों तरफ जवाबी कार्रवाई को लेकर खबरें जोरों पर रहीं. पाकिस्तान ने एलओसी इलाके में अपने लड़ाकू विमान से घुसपैठ की कोशिश की जिसे भारतीय वायु सेना ने नाकाम कर दिया. पाकिस्तानी विमान का मलबा पाक अधिकृत कश्मीर में मिला. इस दौरान भारतीय वायुसेना को एक मिग विमान का नुकसान हो गया. भारत के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा कि हमारा एक पायलट लापता है. बाद में उसके पाकिस्तान में बंधक बनाए जाने की सूचना मिली. भरत ने पाकिस्तान के अधिकारियों को तलब किया और पाकिस्तान में कैद पायलट को सुरक्षित वापस करने को कहा.

इस बीच पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने भारत के साथ फिर से बातचीत का राग अलापा. पाकिस्तान के प्रधानमंत्री ने कहा कि जंग हुई तो यह किसी के काबू में नहीं रहेगी. इमरान खान ने कहा कि हम भारत को बातचीत के लिए आमंत्रित करते हैं.

27 फरवरी की शाम में भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सेना प्रमुखों के साथ तकरीबन एक घंटे बात की. साथ में राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल भी उपस्थित थे. इससे पहले 14 फरवरी को पुलवामा में हुए एक आत्मघाती हमले में सीआरपीएफ के 40 जवान शहीद हो गए थे. हमले की जिम्मेदारी पाकिस्तान स्थित आतंकवादी संगठन जैश-ए-मोहम्मद ने ली थी. भारत ने इसके अगले दिन ही सेना को खुली छूट देने की बात कही थी और पाकिस्तान से ‘मोस्ट फेवर्ड नेशन (MFN)’ दर्जा वापस ले लिया था. इसके बाद घाटी में हुए सर्च ऑपरेशन में जैश के कई आतंकवादी मारे गए थे. 26 फरवरी की रात में वायु सेना ने अपनी असैन्य कार्रवाई में पाकिस्तान के बालाकोट स्थित आतंकवादी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के कैंप को ध्वस्त कर दिया था. भारत की इस कार्रवाई का पूरी दुनिया ने समर्थन किया.

Back to top button