टेक्नोलॉजी

फेसबुक और गूगल से जर्नलिज्म को हुआ नुकसान, ऑस्ट्रेलियाई सरकार वसूलेगी जुर्माना

बुधवार को ऑस्ट्रेलियाई संसद (Australian Parliament) में पेश प्रस्तावित कानून का पालन करने में विफल रहे तो इन मीडिया दिग्गजों को इनकी पत्रकारिता के चलते बहुत भारी जुर्माना देना पड़ेगा.

मेलबर्न: फेसबुक और गूगल से एक ओर जहां आम लोगों और सोशल मीडिया (Social media) को फायदा हुआ है, लेकिन वहीं दूसरी ओर इससे जर्नलिज्म (Journalism) को बहुत ज्यादा नुकसान भी हुआ है. इस नुकसान की भरपाई के लिए ऑस्ट्रेलियाई सरकार Google और Facebook पर बहु-मिलियन डॉलर का जुर्माने लगाने की तैयारी में जुट गयी है. बुधवार को ऑस्ट्रेलियाई संसद (Australian Parliament) में पेश प्रस्तावित कानून का पालन करने में विफल रहे तो इन मीडिया दिग्गजों को इनकी पत्रकारिता के चलते बहुत भारी जुर्माना देना पड़ेगा.

फ्राइडेनबर्ग ने उठाया संसद में यह मुद्दा

ऑस्ट्रेलियाई संसद के कोषाध्यक्ष जोश फ्राइडेनबर्ग ने तथाकथित न्यूज मीडिया और डिजिटल प्लेटफॉर्म मेनडेटरी बार्गेनिंग कोड ( News Media and Digital Platforms Mandatory Bargaining Code) की शुरुआत करते हुए इस बात का खुलासा किया कि ऑस्ट्रेलिया वह पहला देश होगा जो इन डिजिटल प्लेटफॉर्म्स को पत्रकारिता संबंधी सामग्री के लिए न्यूज़ मीडिया को मुआवजा देगा.

फ्राइडेनबर्ग ने संसद को बताया कि हम पारंपरिक मीडिया कंपनियों को प्रतिस्पर्धा या तकनीकी व्यवधानों की कठिनाइयों से बचाने की कोशिश नहीं कर रहे हैं बल्कि हम एक समान स्तर का माहौल तैयार हो जहां बाजार की शक्ति का गलत इस्तेमाल न किया जा सके और मूल समाचार सामग्री (Original news content) निर्माण का उचित मुआवजा दिया जाए. इस मसले पर वोटिंग से पहले कानून के मसौदों की होगी जांचइससे पहले की सांसद अगले साल सांसद इस संबंध में वोट दे, एक सीनेट समिति द्वारा इन कानूनों के मसौदे की जांच की जाएगी.

कोड के उल्लंघन करने पर इन डिजिटल कंपनियों को 10 मिलियन ऑस्ट्रेलियाई डॉलर ($ 7.4 मिलियन) का जुर्माना देना होगा या फिर ऑस्ट्रेलिया में अपने वार्षिक कारोबार के 10% के बराबर धन भरना होगा. यदि ये डिजिटल प्लेटफॉर्म और एक न्यूज़ बिजनेस तीन महीने की बातचीत के बाद भी किसी समाचार के लिए एक कीमत पर सहमत नहीं होते तब उस स्थिति में कम से कम दो वर्षों में भुगतान करने के लिए बाध्यकारी निर्णय लेने के लिए एक तीन सदस्यीय मध्यस्थता पैनल नियुक्त किया जाएगा, तब पैनल आमतौर पर प्लेटफॉर्म या न्यूज़ बिजनेस के फाइनल ऑफर को पूर्ण रूप से स्वीकार करेगा.

कैसे किया जाएगा इन डिजिटल कंपनियों द्वारा भुगतान

इस बिल में यह निर्दिष्ट नहीं किया गया है कि भुगतान कैसे किया जाएगा. डिजिटल प्लेटफ़ॉर्म और मीडिया व्यवसाय में इस्तेमाल की जाने वाली न्यूज़ सामग्री की मात्रा के आधार पर एकमुश्त या रेगुलर भुगतान पर सहमत हो सकते हैं. फेसबुक और Google ने कहा है कि वे टिप्पणी करने से पहले कानून के मसौदे को गे.

फेसबुक ने इससे पहले चेतावनी दी थी कि वह भुगतान करने के बजाए ऑस्ट्रेलियाई समाचार सामग्री को ब्लॉक कर देगा. गूगल भी पहले ही कह चुका है. प्रस्तावित कानूनों के परिणामस्वरूप Google Search और YouTube की स्थिति बदतर हो जाएगी. स्वयं पर खतरा मंडराएगा और यूजर का डाटा बड़े समाचार बिजनेस को सौंपा जा सकेगा.

ऑस्ट्रेलियाई सरकार इस बात से चिंतित है कि गूगल ऑनलाइन विज्ञापन का 53% हिस्सा ले रहा है जबकि फेसबुक उन ख़बरों को बिना कोई भुगतान किये 28% हिस्सा ले रहा है जो वो अपने यूजर्स के साथ शेयर करता है. देश के सबसे बड़े मीडिया संगठनों में से एक न्यूज़ कॉर्प ऑस्ट्रेलिया के कार्यकारी अध्यक्ष माइकल मिलर ने इस कानून का स्वागत किया है.

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button