राम-सीता पर बीजेपी और कांग्रेस की जुबानी जंग

खुद पर राम के अस्तित्व को नकारने के बीजेपी के आरोपों पर कांग्रेस ने सत्ताधारी पार्टी पर सीता के अस्तित्व को नकारने का आरोप लगाया है.

नई दिल्ली : खुद पर राम के अस्तित्व को नकारने के बीजेपी के आरोपों पर कांग्रेस ने सत्ताधारी पार्टी पर सीता के अस्तित्व को नकारने का आरोप लगाया है. कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी द्वारा अपनी पार्टी को पांडव और बीजेपी को कौरव बताने के बाद दोनों पार्टियां रामायण और महाभारत के संदर्भों के सहारे एक-दूसरे को घेरने में जुट गई हैं. संसद में सीता के पौराणिक अस्तित्व को लेकर कोई प्रमाण नहीं होने के सरकार के जवाब का सहारा लेते हुए पार्टी ने बीजेपी पर यह वार किया.

केंद्रीय रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण के कांग्रेस और राहुल गांधी का भगवान राम में विश्वास नहीं होने के बयानों का जवाब देते हुए कांग्रेस ने पलटवार किया.

बीजेपी की तुलना कौरवों से करने संबंधी राहुल के बयान पर निर्मला ने रविवार को कहा था कि राम के अस्तित्व को नकारने वाली पार्टी का अपनी तुलना पांडवों से करना हास्यास्पद है. बीजेपी के इस पलटवार का जवाब देने के लिए कांग्रेस ने पिछले साल 12 अप्रैल को राज्यसभा में सरकार के जवाब का सहारा लिया.

बीजेपी ने नकारा है सीता माता के अस्तित्व को

बिहार के सीतामढ़ी जिले में माता सीता की जन्मस्थली से जुड़े सवाल पर संस्कृति मंत्री ने कहा था कि इसके संदर्भ में कोई प्रमाणिक साक्ष्य नहीं है. पुरातत्व विभाग ने भी यहां किसी तरह की खुदाई नहीं करने और सीता की जन्मस्थली होने का कोई प्रमाण नहीं होने की बात कही है.

सुरजेवाला ने कहा कि राजग सरकार के संस्कृति मंत्री ने संसद में सीता माता के अस्तित्व को नकार दिया था. उन्होंने कहा कि सीता के बिना राम की चर्चा ही नहीं पूरी होती और सरकार का यह जवाब जाहिर करता है कि बीजेपी सीता के अस्तित्व को ही नकारती है.

advt
Back to top button