छत्तीसगढ़

कबीरधाम कलेक्टर ने पांच धान समिति के कार्यकारणी प्रभारी और कम्प्यूटर ऑपरेटर के विरूद्व रिपोर्ट दर्ज कराने के आदेश दिए

कबीरधाम जिले के पांच धान उपार्जन केन्द्रों के भौतिक सत्यापन में 1 करोड़ पांच लाख रूपए के लगभग चार हजार एक सौ कि्ंवटल धान की कमी पाई गई।

हिमांशु सिंह ठाकुर ब्यूरो रिपोर्ट कवर्धा।

कवर्धा : कलेक्टर रमेश कुमार शर्मा ने कबीरधाम जिले के पांच धान उपार्जन केन्द्रों के भौतिक सत्यापन में चार हजार एक सौ कि्ंवटल धान की कमी पाए जाने पर संबंधित उपार्जन केन्द्रों के कार्यकारणी समिति, धान खरीदी प्रभारी और कम्प्यूटर ऑपरेटर के विरूद्व अपराध दर्ज कराने के आदेश दिए है यह पांच धान उपार्जन केन्द्र पंडरिया विकासखंड के दुल्लापुर, सरईसेत, कोदवागोड़ान, किशुनगढ़ और पाढ़ी करपीगोड़ान है भौतिक सत्यापन में कमी पाए गए धान के मूल्य लगभग 1 करोड़ 5 लाख रूपए का आंकलन किया गया है।

उल्लेखनीय है कि छत्तीसगढ़ शासन के निर्देशानुसार खरीफ विपणन वर्ष 2019-20 में सेवा सहकारी समिति द्वारा धान उर्पाजन कार्य किया गया है। कलेक्टर रमेश कुमार शर्मा ने धान खरीदी कार्यो का भौतिक सत्यापन कराने के लिए चार अलग-अलग विभागों की संयुक्त टीम बनाकर जांच करने के आदेश दिए थे इन चार संयुक्त टीम में उप पंजीयक सहकारी संस्थाएं, जिला खाद्य अधिकारी, जिला विपणन अधिकारी, जिला नोडल अधिकारी जिला सहकारी केन्द्रीय बैंक शामिल है

संयुक्त टीम द्वारा कबीरधाम जिले के धान उपार्जन केन्द्र पंडरिया विकासखंड के दुल्लापुर, सरईसेत, कोदवागोड़ान, किशुनगढ़ और पाढ़ी करपीगोड़ान भौतिक सत्यापन किया गया। भौतिक सत्यापन में दुल्लापुर उर्पाजन केन्द्र में 519 कि्ंवटल धान, सरईसेत उपार्जन केन्द्र में 681 कि्ंवटल धान कोदवागोड़ान उपार्जन केन्द्र में 1127 कि्ंवटल धान, पाढ़ी करपीगोड़ान में 670 कि्ंवटल धान और किशुनगढ़ धान उर्पाजन केन्द्र में 1 हजार 4 कि्ंवटल धान की मात्रा कम पाया गया संयुक्त टीम द्वारा किए गए भौतिक सत्यापन की रिपोर्ट कलेक्टर के समक्ष प्रस्तुत किया गया

कलेक्टर रमेश कुमार शर्मा ने संबंधित उर्पाजन केन्द्र के प्रभारी, कार्यकारणी समिति और कम्प्यूटर ऑपरेटर के विरूद्व अपराध पंजीबद्व कराने के आदेश दिए है जिला खाद्य अधिकारी अरूण कुमार मेश्राम ने बताया कि जिले के अन्य धान समिति केन्द्रों का भौतिक सत्यापन कार्य संयुक्त टीम द्वारा किया जा रहा है।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button