कबीर की वाणी का छत्तीसगढ़ में व्यापक प्रभाव: भूपेश बघेल

कबीर संत समागम में शामिल हुए मुख्यमंत्री, दामाखेड़ा के विकास के लिए 5 करोड़ आवंटित

आलोक मिश्रा

बलौदाबाजार। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल आज जिले के दामाखेड़ा में माघ मेला के अवसर पर आयोजित सद्गुरू कबीर संत समागम समारोह में शामिल हुए। उन्होंने पंथश्री हुजूर प्रकाश मुनि नाम साहेब का स्वागत करते हुए छत्तीसगढ़ की तरक्की और खुशहाली के लिए आशीर्वाद लिया। विधानसभा अध्यक्ष चरणदास महंत और गृह मंत्री ताम्रध्वज साहू ने भी गुरू का दर्शन कर आशीर्वाद मांगा।

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा कि धर्मनगर दामाखेड़ा कबीरपंथियों की आस्था का एक प्रमुख केन्द्र है। राज्य सरकार यहां के प्राचीन तालाब सहित संपूर्ण दामाखेड़ा के विकास के लिए वचनबद्ध है। विकास कार्यों के लिए राज्य सरकार ने बजट में अलग से शीर्ष निर्मित करते हुए 5 करोड़ रूपए का प्रावधान कर दिया है। आगे भी अब बिना मांगे इस मद के अंतर्गत विकास के लिए राशि मिलता रहेगा। उन्होंने कहा कि यहां दर्शन के लिए आने वाले देश-विदेश के श्रद्धालु दामाखेड़ा की मधुर स्मृति लेकर वापस जाएंगे।

धर्मगुरू पंथश्री प्रकाश मुनि नाम साहेब ने मुख्यमंत्री के रूप में पहली दफा दामाखेड़ा आगमन पर श्री भूपेश बघेल का कबीरपंथी समाज की ओर से आत्मीय स्वागत किया। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल दिल से कबीरपंथी हैं। कबीर के सिद्धांत और उपदेश को वे शुरू से मानते हैं। विगत 20 सालों से मेरा उनसे गहरा नाता है। उन्हांेने संत समागम में पहुंचकर दामाखेड़ा का गौरव बढ़ाया है।

उन्होंने दामाखेड़ा के प्राचीन तालाब का सौंदर्यीकरण करके कबीर सरोवर के रूप में विकसित करने का आग्रह किया और इसके लिए स्वयं के द्वारा तैयार की गई प्रोजेक्ट रिपोर्ट मुख्यमंत्री को सौंपी। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा कि कबीरपंथ का छत्तीसगढ़ के जनजीवन में व्यापक प्रभाव है। इसलिए यहां के लोग शांतिप्रिय है और छत्तीसगढ़ पूरे देश में शांति का टापू बना हुआ है। उन्होंने कहा कि हमारी सरकार कबीर के बताए रास्ते पर चल रही है ताकि जनता के साथ किसी प्रकार का धोखाधड़ी ना हो। उन्होंने कहा कि दामाखेड़ा के सर्वांगीण विकास के लिए बजट की कोई कमी नहीं होगी। प्रारंभिक तौर से हमने 5 करोड़ रूपए का बजट प्रावधान कर दिया है। उन्होंने कहा कि कबीर के अनेक दोहे मुझे अभी भी मौखिक याद हैं। उनके दोहों में अंधविश्वास पर प्रहार और सादगी और प्रेमपूर्ण जीवन का संदेश छिपा है।

विधानसभा अध्यक्ष चरणदास महंत ने अपने सारगर्भित उद्बोधन में कहा कि दामाखेड़ा मेला में देश-विदेश के लोग एकत्र होते हैं। गुरूओं का आशीर्वाद इस दौरान उन्हें मिलता है। उन्होंने कबीर के दोहे पढ़कर गुरू का महत्व बताया। उन्होंने कहा कि महात्मा कबीर के आशीर्वाद है कि राज्य का नया मंत्रीमण्डल पूरा कबीरपंथियों से भरा हुआ है। गृह मंत्री ताम्रध्वज साहू ने कहा कि प्रकाश मुनि नाम साहेब के गद्दी संभालने के बाद देश-विदेश में कबीरपंथ का प्रचार-प्रसार हुआ है।

कबीरपंथ सादगीपूर्ण जीवन जीने का एक रास्ता है जिसमें सभी जाति और समाज के लोग इसमें शामिल हैं।समारोह को स्थानीय विधायक शिवरतन शर्मा ने भी सम्बोधित किया। इस अवसर पर नवोदित उदितमुनि नाम साहब, गुरूगोसांई भानुप्रताप साहब, विधायक विकास उपाध्याय, रायपुर की पूर्व महापौर श्रीमती किरणमयी नायक, दामाखेड़ा के सरपंच कमलेश साहू उपस्थित थे।

Back to top button