कमाचीपुरी आदिनाम मंदिर ने ‘कोरोना देवी’ की मूर्ति की प्राण प्रतिष्ठा करने का किया फैसला

मंदिर के प्रबंधन के अनुसार यह लोगों को कोरोना संक्रमण से बचाएगा

कोयंबटूर:तमिलनाडु के कोयंबटूर स्थित इरुगुर में कमाचीपुरी आदिनाम मंदिर ने ‘कोरोना देवी’ की मूर्ति बनाने और उसकी प्राण प्रतिष्ठा करने का फैसला किया है. मंदिर के प्रबंधन के अनुसार यह लोगों को कोरोना संक्रमण से बचाएगा.

आदिनाम मंदिर के प्रबंधकों में से एक सिवालीनेगेस्वरर ने कहा कि पहले भी हैजा और प्लेग सरीखी बीमारियों से बचने के लिए देवी की प्राण प्रतिष्ठा की गई है. लोगों को रोगों से बचाने के लिए यह परंपरा रही है. राज्य में पहले भी प्लेग मरियाम्न और कुछ अन्य देवियों की मूर्तियां बनी हैं.

इन मूर्तियों के बारे में लोगों का मानना है कि इसने हैजा और प्लेग जैसी बीमारियों से लोगों का बचाव किया. मंदिर प्रबंधन के अनुसार कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर के दौरान संक्रमण से बड़ी संख्या में लोगों की मौत हुई है ऐसे में ग्रेनाइट से बनी ‘कोरोना देवी’ की मूर्ति स्थापित करने का फैसला किया गया है.

इतना ही नहीं कोरोना को लेकर विशेष प्रार्थना भी की जाएगी. 48 दिनों के महायज्ञ के दौरान आम लोग इसमें शामिल नहीं होंगे. महायज्ञ पूरा होने के बाद लोग मंदिर में ‘कोरोना देवी’ के दर्शन कर सकेंगे.

तमिलनाडु में करीब 17 लाख मामले

तमिलनाडु के स्वास्थ्य विभाग के अनुसार 34,875 और मरीजों का पता चलने के बाद राज्य में इस महामारी के मामले बढ़कर 16,99,225 हो गये जबकि 365 मरीजों के जान गंवाने के बाद अब तक राज्य में 18,734 लोगों की इस वायरस के चलते मौत हो चुकी है. मेडिकल बुलेटिन के अनुसार आज 23,863 रोगी ठीक हुए और अब तक कुल 14,26,915 मरीज संक्रमणमुक्त हो चुके हैं.

फिलहाल 2,53,576 मरीज उपचाराधीन हैं

चेन्नई में 6,297 नये मरीज सामने आने के बाद शहर में संक्रमितों की संख्या बढ़कर 4,56,496 हो गयी. शहर में अब तक 6,031 मरीजों ने जान गंवायी है. राज्य में आज 1,70,355 नमूनों की जांच की गयी है. अब तक 2,56,04,311 कोविड-19 परीक्षण हो चुके हैं.

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button