कांगेर वैली अकादमी में वार्षिक सांस्कृतिक कार्यक्रम ” कंफेटी 2017″ का आयोजन

कांगेर वैली अकादमी में वार्षिक सांस्कृतिक कार्यक्रम " कंफेटी 2017" का आयोजन

जिन्दा विरासत खो रही है अपनी कहानी, संझी विरासत बोल रही है अपनी जुबानी।

कांगेर वैली अकादमी के कक्षा 3 से लेकर 12वीं तक के विद्यार्थियों हेतु वार्षिक सांस्कृतिक कार्यक्रम ” कंफेटी 2017″ का आयोजन केवीए में स्थित ऑडिटोरियम में आयोजित किया गया था जिसमे मुख्य अतिथि के रूप में मशहूर पत्रकार व समयक फाउंडेशन के मैनेजिंग ट्रस्टी राहुल देव उपस्थित हुए। स्कूल मैनेजमेंट की तरफ से शैलेन्द्र जैन व राखी जैन ने बताया कि इस वर्ष कंफेटी 2017 का थीम ” अनुगूंज ” है जो विरासत की कहानी को अपने जुबान से व्यक्त करती है। इस हेतु सभी विद्यार्थियों, कोऑर्डिनेटर अनुराधा सप्रे व अन्य सभी शिक्षकों एवं स्टाफ ने बहुत मेहनत कर इसे सफल बनाया।

सर्व प्रथम मुख्य अतिथि राहुल देव, विशिष्ट अतिथि संस्था के चेयरमैन स्वरूपचंद जैन, ललिता जैन, संगीता जैन व संजय जैन ने दीप प्रज्ज्वलित किया और विद्यार्थियों ने सरस्वती वंदना गया। इसके उपरांत कक्षा 3 से 6 तक के लड़कियों ने शिव वंदना से प्रत्येक को मंत्रमुग्ध कर दिया। इसके बाद अनुगूंज थीम पर एक के बाद एक विरासतों की कहानियां उनका दर्द विद्यार्थियों ने अपने शानदार ड्रेस और जानदार प्रस्तुति से दर्शकों को बांधे रखा। रोमन ड्रामा एवं नाटक के द्वारा यह बताया गया कि किस तरह रोम के एमपी थिएटर में गुलामों और शेरों के बीच मुकाबला होता था जिसे रोम के राजा एक विशेष दिन में आयोजित करते थे। इसके बाद अंगकोरवाट नाटक एवं कम्बोडियन नृत्य परिवेशित किया गया जिसमें विद्यार्थियों ने यह बताने की कोशिश की की कंबोडिया में अंगकोरवाट विष्णु मंदिर है जिसे राजा सूर्य वर्मन ने बनवाया था।

यह विष्णु मंदिर कैसे बनना शुरू हुआ, जो भी राजा उस मंदिर के निर्माण में हाथ लगाता था उनकी रहस्यमय तरीके से मृत्यु हो जाती थी। विद्यार्थियों के शानदार परफॉरमेंस से दर्शक दीर्घ्या में बैठे लोग चकित रह गए। इसके पश्चात केवीए के विद्यार्थियों ने शिवाजी फोर्ट ड्रामा तथा नृत्य परिवेशित किये जिसमे उन्होंने बताया कि शिवाजी महाराज का लक्ष्य किला जितना होता था। उन्होंने किस तरह प्रतापगढ़ दुर्ग का निर्माण किया, उनकी गोरिल्ला युद्ध की विशेषता तथा जब शिवाजी को छत्रपति की उपाधि प्रदान की गई तब उनके प्रजा द्वारा किस तरह नृत्य के माध्यम से खुशी जाहिर किये यह विद्यार्थियों ने बताया। इसके उपरांत पिरामिड ड्रामा, इजिप्शियन नृत्य की झलक देखने को मिली जिसे विद्यार्थियों ने सुंदर तरीके से प्रस्तुत किया।

अंत मे मुख्य अतिथि राहुल देव, स्वरूपचंद जैन ने विभिन्न केटेगरी में उत्कृष्ट प्रदर्शन करने हेतु विद्यार्थियों को डिसर्विंग एचीवर्स ऑफ द ईयर पुरस्कार से सम्मानित किया और केवीए की प्राचार्या ने उपस्थित प्रत्येक गणमान्य अतिथियों हेतु आभार व्यक्त किया और धन्यवाद ज्ञापित किया।

advt
Back to top button