कानपुर: स्मृति का गठबंधन पर तंज, कहा- हाथी की सवारी से साइकल होगी पंक्चर

कानपुर। भारतीय जनता पार्टी की पहली चुनावी जनसभा में कपड़ा मंत्री स्मृति इरानी ने राहुल और प्रियंका गांधी पर जोरदार हमले किए। एयर-स्ट्राइक पर सवाल उठाने वालों की जमकर खबर ली। कानपुर को मेट्रो और एयरपोर्ट सपने दिखाए। एसपी-बीएसपी के गठबंधन पर तंज करते हुए कहा कि हाथी जब भी साइकल पर चढ़ा तो साइकल पंक्चर हुई है।

कानपुर के शास्त्री नगर में स्मृति ने जनसभा को संबोधित करते हुए कहा, ‘बीजेपी सरकार में आजकल कुछ लोगों को खुद को गंगा मैया की बेटी बताने का सौभाग्य मिला है। अमेठी की जनता की तरफ से कानपुर के लोगों को यह बताने आई हूं कि राहुल गांधी ने कांग्रेस को बता दिया है कि अमेठी में दाल नहीं गलने वाली है। कानपुर भी अमेठी के सुर में सुर मिलाकर कह रहा है कि भाग राहुल भाग कि जनता आती है।

इरानी ने कहा, ‘जब संसद पर हमला हुआ तो कांग्रेस ने सेना पर प्रश्न उठाने का दुस्साहस किया था। वे गद्दार हैं, जिन्होंने सेनाध्यक्ष को गुंडा कहा था। जब देश की सुरक्षा पर प्रश्न उठे तो कांग्रेस उसका समाधान नहीं दे सकी। 26/11 की घटना के बाद कहा कि ऐसी घटनाएं होती रहती हैं। सैम पित्रोदा जैसे लोगों पर धिक्कार है जो एयर-स्ट्राइक के प्रमाण मांगते हैं। ये तो मोदी की काबिलियत है, जो घर में घुसकर जवाब दे आए। ऐसे लोगों ने 26/11 के बाद सेना को आगे न बढ़ने का आदेश दिया था।’

हाथी की सवारी से साइकल होगी पंक्चर

स्मृति ने इरानी कहा, ‘जो खुद साइकल पर चल रहे हैं, वे मेट्रो का सपना नहीं देख सकते। हाथी पर सवार एयरपोर्ट की बात सोच नहीं सकते। हाथी जब साइकल पर सवार होगा तो साइकल पंक्चर हो जाएगी। जिस हाथ ने बरसों तक भारत की तिजोरी साफ की, उसे आसपास भी न फटकने दें। मैं आपसे कहने आई हूं कि जब हाथी साइकल पर सवार होता है तो पंक्चर होना निश्चित है। उत्तर प्रदेश की विकास की गाड़ी पंक्चर ना हो, इसलिए पोलिंग के दिन कमल का बटन दबाकर विकास की गाड़ी को लक्ष्य तक पहुंचाएं।’

कांग्रेस की 4 पीढ़ियों का काम गरीब मां के बेटों ने कर दिखाया

स्मृति इरानी ने गांधी परिवार पर निशाना साधते हुए कहा, ‘2014 के चुनाव में एक बुजुर्ग अपने पौत्र के साथ अमेठी के बीजेपी दफ्तर पहुंचे। पूछने पर उन्होंने बताया कि अपने पौत्र की उम्र में जब वह इंदिरा गांधी को देखने आए तो उन्होंने कहा था कि ऊंचाहार से अमेठी के बीच ट्रेन चलेगी, कांग्रेस को वोट दो। शादी के बाद पत्नी के साथ इंदिरा गांधी को देखने आए तो यही बात दोहराई गई। बेटे के साथ राजीव गांधी को देखने पहुंचे तो यही आश्वासन मिला। तीन पीढ़ियों ने भाषण दिया, लेकिन गरीब माताओं के बेटे मोदी-योगी ने यह कर दिखाया।’

उपेक्षित नेताओं के दिन बदले

कानपुर क्षेत्र के कद्दावर नेताओं में शुमार रहे पूर्व सांसद श्यामबिहारी मिश्रा और पूर्व विधायक बालचंद्र मिश्रा लंबे समय से उपेक्षित रहे हैं। ये कभी-कभार ही पार्टी के कार्यक्रमों में मंच पर जगह पा सके। हालांकि गोविंद नगर विधानसभा क्षेत्र में हुई इस सभा में दोनों नेताओं को मंच पर जगह दी गई। यह क्षेत्र ब्राह्मण-बहुल माना जाता है। साथ ही कानपुर नगर लोकसभा सीट पर अगड़े मतदाता निर्णायक होते हैं। इसके अलावा क्षेत्र में पकड़ रखने वाले पार्षदों को भी मंच से बोलने का मौका मिला।

Back to top button