बेंगलुरु मेट्रो में हिंदी साइनबोर्ड के खिलाफ कैंपेन

बेंगलुरु में एक ऑनलाइन कैंपेन-नम्मा मेट्रो हिंदी बेड़ा (हमारी मेट्रो में हिंदी नहीं चलेगी) के जोर पकड़ने के बाद कन्नड़ डिवेलपमेंट अथॉरिटी (केडीए)ने बेंगलुरु मेट्रो रेल कॉरपोरेशन (बीएमआरसीएल) के प्रबंध निदेशक प्रदीप सिंह खरोला को नोटिस भेजा है। केडीए ने बेंगलुरु मेट्रो में हिंदी में साइनबोर्ड लगवाने और हिंदी में अनाउंसमेंट करने पर स्पष्टीकरण मांगा है। कन्नड़ समर्थक संगठनों ने स्थिति का फायदा उठाते हुए बीएमआरसीएल ऑफिस के बाहर प्रदर्शन किया और मेट्रो में केवल कन्नड़ या अंग्रेजी भाषा इस्तेमाल करने की मांग की। उनका कहना है कि जब राज्य के अधिकांश लोग लोग हिंदी बोलते या समझते नहीं तो मेट्रो में साइनबोर्ड हिंदी में क्यों है? बेंगलुरु में शहर की मेट्रो सर्विस को नम्मा मेट्रो का नाम दिया गया है।

केडीए के नोटिस के अनुसार बीएमआरसीएल ने कर्नाटक दुकान और व्यापारिक प्रतिष्ठान अधिनियम, कार्मिक और प्रशासनिक सुधार विभाग और केंद्रीय गृह मंत्रालय के दिशा-निर्देशों का उल्लंघन किया है। केडीए के चेयरमैन एस. जी. सिद्धारमैया ने कहा कि नम्मा मेट्रो में बेंगलुरु के लोगों पर जबर्दस्ती हिंदी थोपी जा रही है। बेंगलुरु मेट्रो से हिंदी में लिखे साइनेज हटा देने चाहिए। उन्होंने कहा कि कर्नाटक स्टेट ट्रांसपोर्ट कॉरपोरेशन या बेंगलुरु मेट्रोपॉलिटन ट्रांसपोर्ट कॉरपोरेशन की तरह बीएमआरसीएल राज्य सरकार के स्वामित्व का उपक्रम है, जिसे केंद्र सरकार की ओर से फंड दिया जाता है। इसलिए राज्य के कानूनों के हिसाब से साइनबोर्ड 2 भाषाओं, कन्नड़ और अंग्रेजी में होने चाहिए। उन्होंने कहा कि केवल केंद्र सरकार के प्रतिष्ठानों में ही तीन भाषा, स्थानीय भाषा, हिंदी और अंग्रेजी के प्रयोग की जरूरत पड़ती है।

ऑनलाइन कैंपेन के वायरल होने के बाद इस मुद्दे पर सरकार के दखल की जरूरत महसूस की गई। सोशल मीडिया कैंपेनर्स ने यह भी कहा, ‘जब चैन्ने मेट्रो में तमिल और इंग्लिश में बोर्ड है, तो नम्मा मेट्रो में कन्नड़ और अंग्रेजी में क्यों नहीं हो सकते?’ बीएमआरसीएल के प्रबंध निदेशक प्रदीप सिंह खरोला ने कहा कि कर्नाटक रक्षा वेदिके के अध्यक्ष और अधिकारियों ने एक ज्ञापन भी दाखिल किया है, जिसमें कहा गया है कि मेट्रो स्टेशन पर नाम के बोर्ड में हिंदी इस्तेमाल नहीं होनी चाहिए। हमें यह ज्ञापन मिल चुका है और हमने इसे भारत सरकार को भेजा है।

Back to top button