कर्नाटक की गलतियां नहीं दोहराएगी कांग्रेस, भाजपा को हराने की बनेगी रणनीति

गुजरात के फॉर्मूले पर चलकर यहां सरकार बनाने की कोशिश की जाएगी।

रायपुर, छत्तीसगढ़ में भी कांग्रेस जीत के लिए नहीं, बल्कि भाजपा को हराने की रणनीति पर काम करेगी। कर्नाटक चुनाव में पार्टी से जो गलतियां हुई थीं, उन्हें यहां नहीं दोहराया जाएगा। गुजरात के फॉर्मूले पर चलकर यहां सरकार बनाने की कोशिश की जाएगी।

जिस तरह से गुजरात में कांग्रेस ने सोशल मीडिया से लेकर हर बूथ में कैम्प लगाकर ताबड़तोड़ कैम्पेन चलाया था, उसी तरह यहां भी जुलाई से अक्टूबर तक कैम्पेन चलाने का फैसला लिया गया है।

चुनावी रणनीति बनाने और मोर्चा संगठन, प्रकोष्ठों, विभागों, समितियों और बूथ स्तर तक के कार्यकर्ताओं को जिम्मेदारी देने के लिए सोमवार से गुरुवार तक कांग्रेस के नेता एक छत के नीचे जुटेंगे। मैराथन बैठकों का दौर चलेगा।

पहले दिन चार बैठकें हुईं। अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के डाटा एनालिटिकल विभाग और सोशल मीडिया के रोहन गुप्ता, प्रवीण चक्रवर्ती और शशांक शुक्ला ने प्रदेश प्रभारी पीएल पुनिया, डॉ. चंदन यादव, अरुण उरांव, प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष भूपेश बघेल, नेता-प्रतिपक्ष टीएस सिंहदेव समेत अन्य नेताओं और पदाधिकारियों के सामने प्रजेंटेशन दिया।

प्रदेश के नेताओं को बताया गया कि कर्नाटक में वापस सरकार बनाने में कहां चूक हुई और गुजरात में कैसे कांग्रेस ने भाजपा का पसीना निकाला था। प्रदेश के नेताओं ने तय किया है कि गुजरात फॉर्मूले पर ज्यादा से ज्यादा यहां काम होगा।

मोर्चा संगठन, विभागों, समितियों और प्रकोष्ठों के अध्यक्षों को अपने बूथ स्तर के कार्यकर्ताओं को आक्रामक बनाने के लिए कहा गया है। दिल्ली से आए प्रभारियों शक्ति प्रोजेक्ट पर बात की। मंगलवार को प्रदेश प्रभारी चुनाव समितियों की बैठक लेंगे।

कांग्रेस को यह होगी रणनीति-

गुजरात की तरह यहां युवाओं, किसानों, महिलाओं, निम्न आय वर्ग, शहरी जनता, शिक्षा, स्वास्थ्य के लिए कैम्पेन चलाया जएगा। हर विधानसभा में कैम्पेन चलाकर जनता से फॉर्म भराया जाएंगे। उन्हें पीसीसी अध्यक्ष का वॉइस रिकॉर्ड कॉल जाएगा, हमें अपना वादा याद है।

Back to top button