कार्तिक पर होंगी सबकी निगाहें, 11 साल बाद बदल सकते हैं भारतीय टीम की किस्मत

नई दिल्ली : भारतीय क्रिकेट टीम टीम जब बुधवार को बर्मिंघम में इंग्लैंड के खिलाफ 5 टेस्ट मैचों की शुरूआत करने उतरेगी तो सबकी निगाहें विकेटकीपर दिनेश कार्तिक पर होंगी। नजरें उनपर हो भी क्यों ना, अकसर लंबे अर्से बाद वह अंग्रेजों की धरती पर टेस्ट खेलने के इरादे से खुद साबित करने जुटेंगे। उनसे उम्मीद जताई जा रही है कि वह फिर से 11 साल बाद भारतीय टीम की किस्मत बदल सकते हैं।

इंग्लैंड में 2007 में जीती थी अाखिरी सीरीज : राहुल द्रविड़ की कप्तानी वाली टीम ने साल 2007 में इंग्लैंड को टेस्ट सीरीज में 3 मैचों की सीरीज में 1-0 से मात देकर 21 साल बाद सीरीज पर कब्जा किया था। उस टीम में दिनेश कार्तिक शामिल थे। इस दौरे पर बल्ले से दिनेश कार्तिक ने कमाल का प्रदर्शन किया था।

कार्तिक ने 91 रन की सर्वश्रेष्ठ पारी के साथ 3 अर्धशतक जमाते हुए 263 रन बनाए थे। उनका औसत 43.83 का रहा था। यह सीरीज भारतीय विकेटकीपर दिनेश कार्तिक के लिए अहम साबित होने वाली है। लंबे समय बाद टेस्ट टीम में वापसी करने वाले कार्तिक हाथ आए इस मौको को पूरी तरह से इस्तेमाल करना चाहेंगे। भारत ने 2007 के बाद 2011 और 2014 में इंग्लैंड का दौरा किया जहां टीम इंडिया को हार मिली।

मुश्किल है चुनाैती : वहीं अगर इतिहास पर नजर डालें तो भारत ने इंग्लैंड की धरती पर अभी तक 17 सीरीज खेली हैं, लेकिन निराश कर देने वाली बात यह है कि सिर्फ 3 बार ही भारत सीरीज पर कब्जा करने में कामयाब रहा। 1971 में अीजत वाडेकर की कप्तानी में भारत ने 3 मैचों की सीरीज में पहली बार 1-0 से सीरीज जीती थी। इसके बाद 1986 में कपिल देव की कप्तानी में 2-0, जबकि 2007 में राहुल द्रविड़ की कप्तानी में 1-0 से भारत ने इंग्लैंड में सीरीज पर कब्जा किया था।

Back to top button