छत्तीसगढ़राजनीतिराष्ट्रीय

कसडोल और बिलाईगढ़ में गठबंधन की होगी दमदार चुनौती

कसडोल विधानसभा क्षेत्र बिलाईगढ़ विधानसभा क्षेत्र

कसडोल में भाजपा, कांग्रेस डॉवाडोल

बसपा बिगाड़ेगी समीकरण  

बिलाईगढ़ में भाजपा के सामने होगी

अपना गढ़ बचाने की चुनौती

गौरीशंकर अग्रवालसनम जांगडे भाटापारा-बलौदाबाजार की कसडोल सामान्य विधानसभा सीट पर ज्यादातर कांग्रेस विधायक जीत का विधानसभा में पहुंचते रहे हैं। वर्तमान में यहां से भाजपा के गौरीशंकर अग्रवाल विधायक चुने गए हैं। वहीं अनुसूचित जाति के लिए सुरक्षित बिलाईगढ़ में छत्तीसगढ़ बनने के बाद से कांग्रेस और भाजपा को बारी-बारी से जीत मिलती रही है। वर्तमान में यहां से भाजपा के सनम जांगड़े विधायक चुने गए हैं।

रायपुर: साल 2003 के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस ने कसडोल सामान्य सीट पर राजकमल सिंघानिया को अपना उम्मीदवार बनाया था वहीं भाजपा ने गौरीशंकर अग्रवाल को मैदान में उतारा था। इस चुनाव में कांग्रेस के राजकमल सिंघानिया ने भाजपा के गौरीशंकर अग्रवाल को सीधे मुकाबले में 5022 मतों से हराया। कांग्रेस के राजकमल सिंघानिया को 48024 मत मिले वहीं भाजपा के गौरीशंकर अग्रवाल को 43002 मतों से संतोष करना पड़ा।

साल 2008 के विधानसभा चुनाव में भाजपा ने कसडोल सामान्य सीट पर अपना उम्मीवार बदलते हुए योगेश चंद्राकर को मैदान में उतारा था, मगर भाजपा की चाल कामयाब नहीं हो सकी। कांग्रेस ने अपने पुराने चेहरे राजकमल सिंघानिया को दोबारा मौका दिया जो अपनी जीत बचा पाने में कामयाब रहे। इस चुनाव में कांग्रेस के राजकमल सिंघानिया ने त्रिकोणीय मुकाबले में भाजपा के योगेश चंद्राकर को 27206 मतों से हराया। बसपा तीसरे स्थान पर रही। कांग्रेस के राजकमल सिंघानिया को 77661 मत मिले वहीं भाजपा के योगेश चंद्राकर को 50455 मतों से संतोष करना पड़ा।

साल 2013 के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस ने तीसरी बार राजकमल सिंघानिया को अपना उम्मीदवार बनाया, जिन्हें एंटी इनकम्बेंसी फैक्टर की वजह से हार का सामना करना पड़ा। भाजपा की ओर से उनके पुराने प्रतिद्वंद्वी गौरीशंकर अग्रवाल मैदान में थे।
इस चुनाव में त्रिकोणीय मुकाबले में भाजपा के गौरीशंकर अग्रवाल ने कांग्रेस के राजकमल सिंघानिया को 22925 मतों से हराया। बसपा तीसरे स्थान पर रही। भाजपा के गौरीशंकर अग्रवाल को 93629 मत मिले वहीं कांग्रेस के राजकमल सिंघानिया को 70701 मतों से संतोष करना पड़ा। बहुजन समाज पार्टी के उम्मीदवार राजकुमार पात्रे को कुल 33736 मत मिले।

आने वाले चुनाव में भाजपा की ओर से वर्तमान विधानसभा अध्यक्ष गौरीशंकर अग्रवाल फिर मैदान में हो सकते हैं वहीं कांग्रेस किसे अपना उम्मीदवार बनाएगी ये अभी साफ नहीं हो पाया है। इस चुनाव में बसपा-जोगी कांग्रेस भी अपना उम्मीदवार उतारेगी। बता दें कि 2013 के विधानसभा चुनाव में कसडोस सामान्य सीट पर बसपा उम्मीदवार राजकुमार पात्रे को 33736 मत मिले थे जो कुल मतों का 15 प्रतिशत है। बसपा इस बार कसडोल में पूरी मजबूती के साथ चुनाव में उतरेगी, ऐसे हालात में भाजपा के आगे अपनी जीत बचाने की चुनौती होगी तो कांग्रेस अपना पुराना गढ़ बचाने के लिए पूरी ताकत झोंकने की तैयारी में है।

बिलाईगढ़ में भाजपा के सामने गढ़ बचाने की चुनौती

साल 2003 के परिसीमन में भटगांव विधानसभा सीट को विलोपित कर अस्तित्व में आई अनुसूचित जाति के लिए आरक्षित बिलाईगढ़ विधानसभा क्षेत्र में अब तक कांग्रेस और भाजपा को बारी-बारी से जीत मिलती रही है।

साल 2008 के विधानसभा चुनाव में यहां से कांग्रेस के डॉ. शिव डहरिया जीतकर विधानसभा में पहुंचे थे। वहीं भाजपा ने डॉ सनम जांगड़े को मैदान में उतारा था। इस चुनाव में कांग्रेस के डॉ. शिव डहरिया ने भाजपा के डॉ. सनम जांगड़े को त्रिकोणीय मुकाबले में 13622 मतों से हराया। बसपा तीसरे स्थान पर रही। कांग्रेस डॉ. शिव डहरिया को 55863 मत मिले वहीं भाजपा के डॉ. समन जांगड़े को 42241 मतों से संतोष करना पड़ा।

साल 2013 में कांग्रेस ने डॉ.शिव डहरिया को दोबारा अपना उम्मीदवार बनाया जिन्हें एंटी इनकम्बेंसी के वजह से 12695 मतों के अंतर हार का सामना करना पड़ा। भाजपा की ओर से डॉ. सनम जांगड़े दोबारा मैदान में थे जो जीत कर विधानसभा में पहुंचने में कामयाब रहे। त्रिकोणीय मुकाबले में भाजपा के डॉ. सनम जांगड़े को 71364 मत मिले वहीं कांग्रेस के डॉ. शिव डहरिया को 58699 मतों से संतोष करना पड़ा। बसपा के सत्यम टंडन 33736 मतों के साथ तीसरे स्थान पर रहे।

आने वाले विधानसभा चुनाव में भाजपा को एंटीइनकम्बेंसी का डर सता रहा है कयास लगाए जा रहे हैं पार्टी अपना उम्मीदवार बदल सकती है। वहीं कांग्रेस के आगे बसपा-जोगी गठबंधन से निपटने की चुनौती। फिलहाल त्रिकोणीय मुकाबले के आसार हैं।

Summary
Review Date
Reviewed Item
कसडोल और बिलाईगढ़ में गठबंधन की होगी दमदार चुनौती
Author Rating
51star1star1star1star1star
Tags