कटघोरा : डिप्टी रेंजर के मर्डर की आशंका,एफएसएल और डॉग स्क्वायड की टीम ने की घटनास्थल की बारीकी से जांच,पुलिस को शॉर्ट पीएम रिपोर्ट का इंतज़ार..

कटघोरा अंतर्गत सुतर्रा छेत्र के पुराने बेरियर के बांस टाल के नजदीक मिले डिप्टी रेंजर के शव के मामले ने अहम मोड़ ले लिया है.

अरविन्द शर्मा

कोरबा/कटघोरा: कटघोरा अंतर्गत सुतर्रा छेत्र के पुराने बेरियर के बांस टाल के नजदीक मिले डिप्टी रेंजर के शव के मामले ने अहम मोड़ ले लिया है. उपलब्ध सबूत और गवाहों के प्राथमिक के बयान के बाद मामला हत्या का प्रतीत हो रहा है हालांकि पुलिस ने शार्ट पोस्टमार्टम रिपोर्ट के आने की बात कही है जिसके बाद ही मौत की असल वजह का खुलासा हो सकेगा.

दूसरी तरफ परिजनों ने भी डिप्टी रेंजर कंचराम पाटले की हत्या का अंदेशा जाहिर किया है. उन्होंने पुलिस से मामले की सूक्षमता से जांच की मांग की है. संदिग्ध तौर पर मिले वनमण्डल के उप वनपरिक्षेत्राधिकारी के शव के प्रकरण को जल्द से जल्द सुलझाने पुलिस ने भी अपनी ताकत झोंक दी है.

डॉग स्क्वायड 

लाश मिलने के तुरन्त बाद प्रभारी टीआई अशोक शर्मा सदल बल मौके के लिए रवाना हुए जबकि प्रभारी एसडीओपी रामगोपाल करियारे ने मीडिया को इस पूरे प्रकरण की विस्तृत जानकारी दी. इसके अलावा मौके पर डॉग स्क्वायड और फोरेंसिक एक्सपर्ट के साथ दर्री सीएसपी खोमन लाल सिन्हा (उ.पु.अ.) भी मौके पर पहुंचे हुए थे.

पुष्ट सूत्रों ने इस पूरे अनसुलझे प्रकरण पर बताया कि मृतक डिप्टी रेंजर कंचराम अपनी दूसरी पत्नी के साथ रहता था. इसके अलावा मृतक का एक ट्रेक्टर को लेकर अपने साढू के साथ भी विवाद चल रहा था. सूत्र बताते है कि मृतक को कल शाम ड्यूटी जाने के दौरान एक अनजान कॉल आया था जिसके बाद से कंचराम गायब थे.

आज सुबह उनका शव ड्यूटी स्थल से करीब एक किलोमीटर दूर सुतर्रा बांस टाल के पुराने बेरियर के किनारे पाया गया. मृतक के मुंह से हल्का खून बह रहा था हालांकि हाथ-पैर में किसी तरह के कोई संघर्ष के निशान नही थे. पुलिस के अफसरों ने उन सभी लोगो का बयान कलमबद्ध कर लिया जिनकी मुलाकात मौत से पहले कंचराम से हुई थी. कटघोरा पुलिस ने एक दो दिन के भीतर मामले के खुलासे की बात कही है.

Tags
cg dpr advertisement cg dpr advertisement cg dpr advertisement
cg dpr advertisement cg dpr advertisement cg dpr advertisement

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button