कटघोरा : जनपद पंचायत की सामान्य सभा रही हंगामेदार,..पूर्व उपाध्यक्ष कोर्राम ने जनपद सीईओ खुटेल पर दागे कई सवाल..कहा- मनमाने ढंग से बिना सामान्य सभा के अनुमोदन से करवाये गए कई कार्य.

जनपद पंचायत कटघोरा की सामान्य सभा हंगामेदार रही. पूर्व जनपद पंचायत कटघोरा उपाध्यक्ष तथा वर्तमान जनपद सदस्य रामप्रसाद कोराम के द्वारा जनपद सीईओ एच एन खुटेल पर कई सवाल दागे.

अरविन्द शर्मा

कटघोरा : जनपद पंचायत कटघोरा की सामान्य सभा हंगामेदार रही. पूर्व जनपद पंचायत कटघोरा उपाध्यक्ष तथा वर्तमान जनपद सदस्य रामप्रसाद कोराम के द्वारा जनपद सीईओ एच एन खुटेल पर कई सवाल दागे. जनपद सीईओ के द्वारा मनमाने ढंग से अनेको कार्य बिना सामान्य सभा के अनुमोदन के करवाया गया है. जैसे बैठक हाल में कारपेट लगवाया गया है, जनपद ऑफिस की खिड़की को तोड़कर नया खिड़की लगवाया गया है, और तो और स्टेशनरी क्रय, चाय,नाश्ता में लाखों रुपये आहरण बिना सामान्य सभा के अनुमोदन के किया गया है.

रामप्रसाद कोर्राम (पूर्व उपाध्यक्ष जनपद पंचायत कटघोरा)

बता दे कि जनपद सीईओ खुटेल का कार्यकाल लगभग 2 वर्ष का हो चुका है लेकिन अभी तक इन्होंने एक बार भी सामान्य सभा की बैठक आयोजित नहीं की है.15वें वित्त जनपद से अनुमोदित स्वीकृत कार्यों का अभी तक वर्क आर्डर जारी नहीं किया गया है. सभा में अन्य सदस्यों ने भी जमकर भड़ास निकालते हुए हल्ला बोला है कहा प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत जो मजदूरी भुगतान मिलता है जिसका 15 हज़ार रुपये आज तक भुगतान नहीं हुआ है.

वर्मी खाद

जबरदस्ती पंचायतों को वर्मी खाद लेने को मजबूर किया जा रहा है सीईओ के खुटेल के कार्यकाल में सामान्य सभा की बैठक का जनपद सदस्यों के द्वारा बहिष्कार किया गया है. जिसका सीधा असर ग्राम पंचायतों के विकास कार्यों पर पड़ रहा है.हठधर्मिता वाले सीईओ खुटेल अपने रवैये की वजह से अपनो के बीच बेगाने बने हुए हैं इनकाका तालमेल अपने मातहत कर्मचारियों व जनप्रतिनिधियों से नही जम पा रहा है।

सीईओ खुटेल को कटघोरा जनपद पंचायत का प्रभार पांच बार मिल चुका है लेकिन आज तक इनका तालमेल सरपंच, सचिव से लेकर मातहत कर्मचारियों के साथ नहीं बैठ पाया है. जिसकी वजह से खुटेल की कार्यशैली को लेकर सभी में नाराजगी देखी जा सकती है. जिसकी वजह से अब तक एक भी बार सामान्य सभा सही ढंग से नही हो सकी है.

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button