कटघोरा : वनमंडल के डिपो में पदस्थ डिप्टी रेंजर की संदिग्ध रूप से सड़क किनारे मिली लाश,तफ्तीश शुरू

शरीर पर नही मिला कोई चोट का निशान, शव पोस्टमार्टम के लिए रवाना

अरविंद शर्मा/चंद्रकांत डिकसेना की रिपोर्ट

उच्चाधिकारियों के निर्देश पर एफएसएल की टीम भी मौके के लिए रवाना.

डॉग स्क्वायड,सायबर सेल व फॉरेंसिक टीम की ली जा रही मदद

कोरबा/कटघोरा: वनमण्डल के अंतर्गत कसनिया डिपो में पदस्थ फॉरेस्ट के डिप्टी रेंजर स्तर के एक कर्मी की लाश संदिग्ध रूप से कटघोरा बिलासपुर मार्ग के किनारे सुतर्रा पुराना बेरियल के समीप बरामद की गई है. मृतक डिप्टी रेंजर का नाम कंचराम पाटले पिता पूरन पाटले (58) था. सूचना पर मौके पर पहुंची डायल 112 की टीम ने शव को बरामद कर लिया है. कटघोरा पुलिस ने मामले में मर्ग कायमी के बाद सूचना उच्चाधिकारियों को दे दी है. पुलिस ने मौत की वजह जानने और तथ्यों की जांच के लिए एफएसएल की टीम को भी तलब किया है.

इस सम्बंध में बताया गया कि कंचराम पाटले उत्पादन डिपो के बेरियर में पदस्थ था. वे स्थानीय वनमण्डल के 5 परिसर में निवास करते थे. कल शनिवार को शाम 7:30 बजे वह अपने मकान से ड्यूटी के लिए रवाना हुए थे लेकिन आज सुबह उनका शव बेरियर के किनारे झाड़ियों में पड़ा हुआ मिला जिसकी सूचना फौरन 112 को दी गई. प्राथमिक परीक्षण में मृतक के शरीर पर कोई चोट के निशान नही मिलें है जिस वजह से मामला संदिग्ध हो चला है. बहरहाल कटघोरा पुलिस वैधानिक कार्रवाई में जुटी हुई है.

पुलिस अधीक्षक अभिषेक मीणा 

संदिग्ध मामले को लेकर जिला पुलिस अधीक्षक अभिषेक मीणा के निर्देशन में कटघोरा एसडीओपी रामगोपाल करियारे के मार्गदर्शन ने कटघोरा थाना इंचार्च अशोक शर्मा,दर्री थाना प्रभारी चेलक,बांकी थाना प्रभारी रामेंद्र सिंह,कटघोरा थाना उपनिरीक्षक राजीव श्रीवास्तव व हमराह स्टाफ बड़ी संख्या में मौजूद रहे।प्रथम दृष्टया यह पूरा मामला संदिग्ध होने से साइबर सेल, डॉग स्क्वायड व फॉरेंसिक टीम की मदद ली जा रही है।

वनमंडल कर्मचारी की एकाएक संदिग्ध मौत पर कटघोरा डीएफओ शमा फारूकी,एसडीओ प्रह्लाद यादव,कटघोरा रेंजर मृत्युंजय शर्मा सहित बड़ी संख्या में वन अमला भी घटना स्थल पर मौजूद।वन अमला भी इस घटना को लेकर हतप्रभ है जिस कर्मचारी को समयानुसार ड्यूटी पर आमद देना वह रात्रि भर गायब रहा और सुबह इसकी लाश बरामद होने से पूरे अमले में हड़कंप मच गया है।पुलिस पूरे घटना को लेकर जांच में जुट गई है।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button