राष्ट्रीय

कठुआ गैंगरेप : माँ ने बच्ची को याद करते हुए कहा, घोड़ों और घास के मैदानों से बहुत प्यार था उसे

पीड़िता की मां ने बताया कि उसे कारगिल बहुत पसंद था, कारगिल के बड़े बड़े घास के मैदान उसके पसंदीदा थे, जिनमें वह अपने घोड़ों को बड़े ही चाव से घास चराती थी

पूरे देश में कठुआ गैंगरेप को लेकर रोष हैं,आठ वर्षीय बच्ची के साथ हुए इस जघन्य अपराध को सोचकर ही दिल दहल उठता हैं, वही पीड़िता की मां ने अपनी बेटी को याद करते हुए कहा कि उसे घोड़ों और घास के मैदानों से बहुत प्यार था। पीड़िता की मां ने बताया कि जब वह घर से गायब हुई थी, तभी उसके लिए शादी में जाने के लिए नए कपड़े और नए सैंडल लिए थे। लेकिन अब उसके जाने के बाद उसके सभी कपड़े एक बक्से में बंद करके रख दिए हैं।

बता दें कि पीड़िता का परिवार कठुआ के गांव को छोड़ चुका है और फिलहाल जम्मू श्रीनगर हाइवे पर स्थित किशनपुर में रह रहे हैं। पीड़िता की मां ने बताया कि उसे कारगिल बहुत पसंद था, कारगिल के बड़े बड़े घास के मैदान उसके पसंदीदा थे, जिनमें वह अपने घोड़ों को बड़े ही चाव से घास चराती थी। पीड़िता के सबसे पसंदीदा घोड़े सुंदर की ओर इशारा करते हुए पीड़िता की मां की आंखे भर आयी।

पीड़िता की मां ने बताया कि हमने उसे कभी यह पता नहीं चलने दिया था कि वह हमारी बेटी नहीं है। हमने अपने तीन बच्चों को एक बस दुर्घटना में खोने के बाद उसे अपनी एक बहन से गोद लिया था। फिलहाल पीड़िता की मां को अपने बच्चों की चिंता है, जिनमें से 2 बेटे और एक बेटी है। एक बेटा 11वीं कक्षा का छात्र है और दूसरा छठी कक्षा का।

वहीं बेटी को अभी इन लोगों ने स्कूल नहीं भेजा है। पीड़िता की मां का कहना है कि उनकी दूसरी बेटी, जोकि 8 साल की है, बहुत शरारती है और जब थोड़ी और सयानी हो जाएगी, उसके बाद उसे स्कूल भेजा जाएगा। महिला ने बताया कि ‘उनका एक बेटा अभी भी कठुआ के उसी गांव के स्कूल में पढ़ता है, लेकिन रात को वह हमारे रिश्तेदारों के घर सांबा चला जाता है, क्योंकि गांव में रात में रुकना सुरक्षित नहीं है।

Summary
Review Date
Reviewed Item
कठुआ गैंगरेप : माँ ने बच्ची को याद करते हुए कहा, घोड़ों और घास के मैदानों से बहुत प्यार था उसे
Author Rating
51star1star1star1star1star
Tags

Related Articles

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *