कवर्धा झंडा विवाद : जिले में धारा 144 लागू, पीड़ितों से मिलने भाजपा प्रतिनिधिमंडल को प्रशासन ने रोका

कवर्धा में निर्मित हालात का जायजा लेने पहुंचे प्रतिनिधिमंडल सदस्यों को पीड़ित परिजनों से मिलने नहीं दिया।

रायपुर। कवर्धा में निर्मित हालात का जायजा लेने पहुंचे प्रतिनिधिमंडल सदस्यों को पीड़ित परिजनों से मिलने नहीं दिया। प्रतिनिधिमंडल में प्रमुख रूप से नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक, प्रदेश महामंत्री व विधायक नारायण चंदेल, पूर्व मंत्री बृजमोहन अग्रवाल, डॉ. कृष्णमूर्ति बांधी शामिल थे। प्रतिनिधिमंडल के सदस्यों ने भाजपा के स्थानीय नेताओं से चर्चा की।

इसके बाद पीड़ित पक्ष से मुलाकात करना चाहा तो प्रशासन ने मिलने से मना कर दिया। इसके विरोध स्वरूप में प्रतिनिधिमंडल व कार्यकर्ताओं ने धरना देकर विरोध जताया। कौशिक ने कहा कि प्रदेश की सरकार को जरा भी प्रदेशवासियों की चिंता नहीं है। कवर्धा में जो हालात निर्मित हुआ है ​इसके लिए प्रशासन जिम्मेदार है। इस दौरान भाजपा जिलाध्यक्ष अनिल सिंह, प्रदेश मंत्री विजय शर्मा, पूर्व विधायक अशोक साहू, मोतीराम चंद्रवंशी सहित भाजपा कार्यकर्ता-पदाधिकारी बड़ी संख्या में मौजूद थे।

आपको बता दें जिले में शांति व्यवस्था बनाए रखने के लिए प्रशासन ने धारा 144 लगा दी थी, लेकिन इसके बावजूद मंगलवार को एक संगठन ने कवर्धा बंद का आह्वान किया और प्रदर्शन किया. इस प्रदर्शन के दौरान भी कुछ शरारती तत्वों ने पथराव किया और कुछ जगहों पर तोड़फोड़ भी की गई. स्थिति को संभालने के लिए पुलिस ने जमकर लाठियां भांजी और भीड़ को तितर-बितर करने के लिए आंसू गैस के गोले भी छोड़े गए.

जानकारी के मुताबिक उपद्रव के बाद पुलिस ने कवर्धा को छावनी में तब्दील कर दिया है. हजारों की संख्या में पुलिसकर्मी तैनात किए गए हैं और शहर में फ्लैग मार्च भी किया गया है. उपद्रव में शामिल करीब 70 लोगों की वीडियो फुटेज से पहचान कर ली गई है और उनमें से करीब 58 लोगों को गिरफ्तार कर लिया गया है. एहतियात के तौर पर फिलहाल कवर्धा में सभी व्यवसायिक प्रतिष्ठानों और शिक्षण संस्थानों को बंद रखा गया है.

जानिए क्या है मामला 

जानकारी के मुताबिक रविवार को कवर्धा के लोहारा नाका चौक पर कुछ युवकों ने अपना झंडा लगा दिया था, जिसके बाद दुर्गेश नाम के एक युवक की पिटाई कर दी गई. इस पिटाई के बाद दो गुटों में झड़प हो गई और इस दौरान दोनों तरफ से जमकर पत्थरबाजी हुई.

 

 

 

 

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button