क्राइम

कवर्धा पुलिस पर अपराध के मामलों को लेकर उठ रहे सवाल कार्यवाही के नाम पर हो रही खानापूर्ति

कवर्धा थाना क्षेत्र में लगातार बढ़ रही वारदातों से क्षेत्रवासियों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है लोग कवर्धा कोतवाली थाना की पुलिसिंग से नाखुश नजर आ रहे हैं

हिमांशु सिंह ठाकुर:- ब्यूरो रिपोर्ट कवर्धा।

कवर्धा : कवर्धा थाना क्षेत्र में लगातार बढ़ रही वारदातों से क्षेत्रवासियों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है लोग कवर्धा कोतवाली थाना की पुलिसिंग से नाखुश नजर आ रहे हैं हम आपको बता दें कि जिले के पुलिस कप्तान शलभ कुमार सिन्हा के जुआसट्टा चोरी अवैध कारोबारी पर शिकंजा कसने के शख़्त निर्देशों के बाद भी कोतवाली क्षेत्र में बढ़ रहे अपराध थाना प्रभारी मुकेश सोम पर सवालिया निशान खड़े करते हैं कवर्धा थाना क्षेत्र अपराधों का गढ़ बनते जा रहा है अगर आप हाल ही के मामलों को देखें तो चोरी के 50 से भी अधिक मामले सामने आ चुके हैं सूत्रों की माने तो क्षेत्र में दिन दहाड़े जुआ सट्टा जैसे अपराध हो रहे हैं और कोतवाली पुलिस हाथ पे हाथ धरे बैठी है।

नशा खोरी चरम पर फिर भी कार्यवाहि शून्य

क्षेत्र मे बच्चे एवं नवयुवक लगातार नशे का शिकार हो रहे हैं, जिससे आम जन समेत नशे के आदि हो जा रहे बच्चों एवं नवयुवकों के परिजनों की भी परेशानियां बढ़ी हैं बच्चे एवं युवा सॉल्यूशन्स, गाँजा भांग जैसे तरह-तरह के ड्रग्स का सेवन कर नशे की गिरफ्त में जा रहे हैं लेकिन कवर्धा कोतवाली के प्रभारी मुकेश सोम एक्शन मोड की जगह डी-एक्टिवेट मोड में नजर आ रहे हैं लिहाजा क्षेत्र में अवैध शराब कारोबारियों का सीना चौड़ा हो गया है व्यापार धड़ल्ले स्व जारी है वहीं कबाड़ वाले बेख़ौफ हो कई कीमती वस्तुओं को अवैध रूप से पार कर गोरखधंधे को बढ़ावा दे रहे हैं हाल ही में लोहारा थाना को आदर्श थाना घोषित किया गया है

लेकिन हैरानी की बात यह है कि कवर्धा कोतवाली को सुरक्षा के हिलाजा अत्यधिक स्टाफ मिलने के बाद भी रवैया संतोष जनक नहीं है अगर जल्द ही एक्शन मोड में नहीं कोतवाली पुलिस तो बढ़ सकती हैं आम जन की परेशानियां कवर्धा थाना क्षेत्र में अपराधों को रोकना है तो पुलिसिंग बढ़ानी होगी क्षेत्र के चुनिंदा क्षेत्रों में स्टाफ ड्यूटी लगानी होगी एवं कार्यवाहियों पर भी विशेष ध्यान देना होगा लगातार फ़ैल होते पुलिस ले ख़ुफ़िया तंत्रो को और मजबूत करना पड़ेगा।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button