कवर्धा पुलिस का कारनामा, पुलिस को पीटते देखती रही

आंखों के सामने पुलिस गाड़ी में तोड़फोड़, फिर आरोपी के इशारे में वर्दीवालों पर ही एफआईआर

अमन जाटवर/बिलासपुर:

अजब है लेकिन सच है…… धोखाधड़ी और 4000000 से अधिक की ठगी के आरोपी को बचाने कवर्धा के पुलिस ने जान की बाजी लगा दी। पहले तो कवर्धा पुलिस ने अपने सामने ही आरोपियों के हाथों वर्दी को पिटते देखा इसके बाद आरोपियों का बचाव करते हुए बिलासपुर पुलिस के खिलाफ एफआईआर दर्ज भी किया।

आरोपियों के उन्हीं के सामने बिलासपुर क्राइम ब्रांच टीम के जवानों को ना केवल पीटा बल्कि सकरी गाड़ी में भी तोड़फोड़ भी की। बावजूद इसके बिलासपुर पुलिस की शिकायत पर कवर्धा पुलिस ने ना तो मामला दर्ज किया है और ना ही किसी भी को गिरफ्तार किया है।

फिलहाल मामले में कवर्धा पुलिस किसी भी फोन नहीं उठा रहा है, इधर बिलासपुर के वरिष्ठ पुलिस कप्तान ने कहा है कि मामले में तह तक जाएंगे आखिर ऐसा हुआ कैसे बहरहाल मामले को लेकर प्रदेश में हंगामा मचा है।

बतादें कि प्रार्थी संजय बंजारे की शिकायत और पुलिस के जांच पड़ताल के बाद सरकंडा थाने में प्रदीप चंद्राकर पिता सुरेंद्र चंद्राकर के खिलाफ आईसीपीसी की धारा 420 और 34 के तहत मामला दर्ज किया गया है। प्रदीप चंद्राकर देश एसे पटवारी है इसके अलावा सरकंडा क्षेत्र मे करियर ड्रीम एजुकेशन अकादमी के नाम से चिटफंड कंपनी भी चलाता है।

पुलिस की जानकारी के अनुसार पटवारी ने गांव.गांव में घूमकर सरकारी कामकाज के दौरान लोगों से प्रोजेक्टर में पैसा लगाने का दबाव बनाया है। साथ ही लोगों को दो से चार या 5 गुना मुनाफे की गारंटी भी दी है।

प्रदीप चंद्राकर के झांसे में आकर बिलासपुर के डॉक्टर संजय बंजारे ने एक साथ 40,00,000 रुपए इन्वेस्ट किया इसके अलावा पटवारी ने सैकड़ों लोगों को झांसे में लेकर चिटफंड का ग्राहक बना दिया और करोड़ों रुपए लेकर फरार हो गया।

आरोपियों की लगातार मिल रही शिकायत के बाद बिलासपुर पुलिस कप्तान आरिफ शेख ने जांच पड़ताल के बाद आरोपी गढ़ पटवारी के खिलाफ आईसीपी की धारा 420 और 34 के तहत मामला दर्ज कराने को कहा साथ ही बिलासपुर क्राइम ब्रांच को आरोपी को जल्द से जल्द गिरफ्तार करने का आदेश दिया है।

वरिष्ठ पुलिस कप्तान के आदेश अनुसार क्राइम ब्रांच बिलासपुर की टीम ने करोड़ों की ठगी करने वाले पटवारी की तलाश तेजी से कर रहे हैं इस बीच क्राइम सायबर सेल के सहयोग से जानकारी मिली कि आरोपी प्रदीप चंद्राकर इस समय कवर्धा में है पता लगते ही पुलिस टीम कवर्धा रवाना हो गई

बिलासपुर क्राइम ब्रांच टीम ने आरोपी का लोकेशन ट्रेस कर आरोपी प्रदीप कुमार चंद्राकर ग्राम पंडरी थाना पांडा तराई को गाड़ी को घेर लिया इस दौरान आरोपी की गाड़ी में उसके दोस्त और रिश्तेदार खदानंद चंद्राकर सवार था बिलासपुर पुलिस ने पूछा कि प्रदीप कौन है इस समय कहां है इतना सुनते ही गाड़ी में सवार लोगों ने आरोपी को बचाने का हंगामा शुरू कर दिया देखते ही देखते गाड़ी के आसपास लोगों की भीड़ बढ़ गई।

इसके बाद स्थानीय लोगों ने आरोपी और उसके परिजनों के साथ क्राइम ब्रांच की टीम को बंदी बना लिया सरकारी गाड़ी में जमकर तोड़फोड़ के मामले में जानकारी मिलते ही कवर्धा पुलिस भी मौके पर पहुंच गई लेकिन वाह ना केवल वर्दी को पीटते हुए देखते रहा बल्कि गाड़ी में तोड़फोड़ होने का नजारा भी देख रहा था देखने के बावजूद भी उन्होंने किसी को रोकने का प्रयास नहीं किया।

मामला जब किसी तरह से शांत हुआ तो कवर्धा पुलिस ने आरोपी पटवारी और परिजनों की शिकायत पर बिलासपुर क्राइम ब्रांच ने जवानों के खिलाफ लूटपाट मारामारी का गंभीर मामला दर्ज कर दिया गया।

मामला गंभीर,उच्च अधिकारी से करेंगे बातचीत

बिलासपुर पुलिस कप्तान ने कहा मारपीट का मामला गंभीर है पटवारी ने करोड़ों रुपए का चिटफंड घोटाला किया है उसकी लंबे समय से तलाश थी जब टीम ने पकड़ने का प्रयास किया तो जवानों के साथ ना केवल मारपीट हुई जानलेवा हमला भी किया गाड़ी में तोड़फोड़ की गई ऐसा करना गंभीर अपराध है शासकीय कार्य में बाधा भी है अधिकारियों से बातचीत कर कवर्धा पुलिस की हरकतों की जानकारी देंगे दोषी को नहीं छोड़ा जाएगा।

1
Back to top button