ऑनलाइन कपड़े खरीदने वाले रखें इन बातों का ध्यान

ऑनलाइन शॉपिंग

ऑनलाइन शॉपिंग ने कई लोगों के लिए खरीदारी आसान कर दी है। लेकिन कई बार बहुत से ऑनलाइन शॉपर को गलत कपड़े मिल जाते हैं और उसे सही करने के बारे में उन्हें जानकारी नहीं होती। इसीलिए शुरुआत करने वाले पहले अपना नाप ठीक करें, अन्य किसी की मदद लें या फिर अपने दर्जी के पास जाएं और उसके बाद अपने ऑर्डर में बदलाव करें।

that1too.com की सह संस्थापक श्रीगोपिका राधाकृष्णन व अरुणा आर. कृष्णन और द मिस्सी को. की सीईओ व संस्थापक शिखा शाह ने इसके लिए कुछ सुझाव दिए हैं।

साइज मायने रखता है: अक्सर, ऑनलाइन शॉपर आकार चार्ट को नजरअंदाज करते हैं। एक वेबसाइट में ‘एस’ साइज किसी दूसरी पर ‘एस’ जैसा नहीं हो सकता है। ऑर्डर देने से पहले आकार चार्ट का उपयोग करें और ऑर्डर देने से पहले साइज को क्रॉस चेक करें।

रंग में गड़बड़ी: कई बार आपके द्वारा ऑर्डर किया गया उत्पाद पूरी तरह से अलग रंग में आता है। यह एक तथ्य है कि जब आप अपने मोबाइल या लैपटॉप स्क्रीन पर जो रंग देखते हैं वह असली उत्पाद से अलग होता है। सही रंग की पहचान करने में पहला कदम कपड़े के बारे में कुछ मूल बातें जानना होता है।

एक्सचेंज और रिटर्न: यदि आप एक विशेष अवसर के लिए कपड़े खरीद रहे हैं और अगर उसमें कोई समस्या आती है तो आप निश्चित रूप से उसे एक्सचेंज या लौटाना चाहेंगे। अगर वेबसाइट ने गलती की है, तो आप उसे बिना परेशानी के सही कर सकते हैं।

जानें कि आप क्या चाहते हैं: यह सुनिश्चित करने के लिए एक सूची बनाने का प्रयास करें कि आपको जरूरी सामान मिले हैं या नहीं।

बजट के बारे में सोचें: अपने दिमाग को बजट की तरह पहले से ही चीजों के लिए तैयार रखें, जिससे विकल्पों को सीमित करने में मदद मिलेगी और खरीदारी प्रक्रिया तेज होगी। कई कीमतों वाले 100 उत्पादों को देखने के बजाय 35 उत्पादों को देखें जो वास्तव में आपके बजट में फिट होते हैं।

त्वरित और प्रभावी: महंगे उत्पाद खरीदते समय आप विश्वास योग्य ब्रांडों में निवेश करें, लेकिन नए ब्रांडों के साथ भी प्रयास और प्रयोग करना चाहिए जो अधिक किफायती होते हैं।

मैच साइज: साइज ब्रांड के आधार पर अलग-अलग होते हैं। बस्ट, कमर और कूल्हों के लिए अपने मूल आकारों का एक नोट रखें। हमेशा मापने वाले एक टेप का प्रयोग करें और अगर आपको याद नहीं है तो इसे जांचें। बहुत सारे ब्रांडों का अपना आकार चार्ट भी होता है।

 <>

new jindal advt tree advt
Back to top button