ध्यान रखें इन बातों का, ताकि बच्चा बार-बार न हो बीमार

छोटे बच्चे सभी को प्यारे होते हैं। पेरेंट्स से लेकर रिश्तेदार तक, सभी उसे गोद में लेकर घूमते और बार-बार चुमते रहते है। जब बच्चा बीमार होने लगता है तो माता-पिता की परेशानी बढ़ने लगती है। उन्हें यहीं मालूम नहीं होता कि उन्हीं की गलती की वजह से बच्चा बार-बार बीमार पड़ रहा है।

अगर आपका नवजात शिशु भी बार-बार छोटी-मोटी प्रॉबल्म जैसे सर्दी, जुकाम या एलर्जी की चपेट में आ रहा है तो आपको कुछ बातों का जरूर ध्यान रखना चाहिए।

शिशु क्यों पड़ता है बार-बार बीमार
दरअसल, जन्म के बाद शिशु के अंग तो विकसित हो चुके होते हैं लेकिन इम्यून सिस्टम अभी तक कमजोर होता है जिस वजह से वह जल्द बीमारियों की चपेट में आने लगता है।

बच्चे को सही तापमान में न रखना
अपने बच्चे को सही तापमान में रखें यानी अगर आपका बच्चा अधिक ठंडी जगह पर रहेगा तो उसकी बार-बार बीमार होने की संभावना बढ़ेगी।

ऐसे में बच्चे को कपड़े में अच्छे से लपेटकर रखें, ताकि वह आराम और सहज महसूस कर सकें।

हाथों की सफाई अच्छे न करना
बच्चे का कोई भी काम करने या उसे गोद में उठाने से पहले अपने हाथों को अच्छी तरह से धो लें। क्योंकि आपके हाथों में मौजूद कीटाणु आपके बच्चे के लिए बेहद हानिकारक हो सकते हैं जिससे शिशु बार-बार बीमार पड़ सकता है।

बार-बार बच्चे को चुमना
अधिकतर पेरेंट्स और कई रिश्तेदार बच्चों को बार-बार चूमने लगते हैं जोकि बिल्कुल गलत है। जिस तरह हमारे हाथों के कीटाणु बच्चों को नुकसान पहुंचाने लगते है उसी प्रकार मुंह के कीटाणु भी बच्चों के लिए जानलेवा होते हैं। खासकर उस वक्त इस बात का ज्यादा ध्यान रखें, जब जन्म के बाद शिशु अस्पताल में होता है।

स्तनपान न करवाना
मां का दूध शिशु के लिए वरदान है इसलिए 6 महीने तक आप अपने बच्चे को स्तनपान ही करवाएं। इससे बच्चे का सही विकास होता है और उसका इम्यून सिस्टम मजबूत रहता है और वह बार-बार बीमार होने से बचा रहता है।

कपड़ों की साफ सफाई
बच्चों की अच्छी सेहत के पीछे साफ सफाई बहुत महत्व रखती है। बच्चों को नहलाते और कपड़ों की भी सफाई का ज्यादा ध्यान रखें क्योंकि बच्चा जिन-जिन लोगों के संपर्क में आता है, उनके कपड़ों का कीटाणु आपके बच्चे तक पहुंच सकता है।

बच्चे के कपड़े धोने के बाद उन्हें धूप में जरूर सुखाए, ताकि कपड़ों के कीटाणु अच्छी तरह से मर जाएं।

समय-समय पर वेक्सीनेशन
बच्चों को कई तरह गंभीर बीमारियों से बचाने के लिए समय-समय पर उसका टीकाकरण जरूर करवाएं। हमेशा डॉक्टर द्वारा दिए गए वेक्सीनेशन चार्ट का पालन करें।

1
Back to top button