आगामी मानसून में बाढ़ आपदा से निपटने पूर्व तैयारियां रखें

- मनीष शर्मा

मुंगेली: कलेक्टर डॉ. सर्वेश्वर नरेंद्र भुरे ने पुलिस अधीक्षक सीडी टंडन के साथ कलेक्टोरेट स्थित मनियारी सभाकक्ष में आगामी मानसून 2019 में बाढ़ आपदा से निपटने पूर्व तैयारी हेतु अधिकारियों की बैठक ली। उन्होने संबंधित अधिकारियों से कहा कि वर्षा ऋतु के मद्देनजर बाढ़ आपदा से निपटने सभी तैयारियां रखें।

जिले में मनियारी और आगर नदी से आंशिक प्रभावित एवं चिन्हांकित ग्रामों की जानकारी दी गई। कलेक्टर ने कहा कि नदी के तट पर बसे ऐसे गांवों का सर्वे कर प्रभावित होने वाले गांवों की सूची तैयार रखें।

उन्होने समस्त एसडीएम और तहसीलदारों को निर्देशित किया कि आगामी मानसून को ध्यान में रखते हुए सभी वर्षामापी यंत्रों को दुरूस्त कर संधारण की जानकारी जिला कार्यालय को उपलब्ध करायेंगे।

साथ ही तहसील स्तरों पर बाढ़ नियंत्रण कक्ष स्थापित कर कर्मचारियों की ड्यूटी लगायें तथा प्रभारी अधिकारी नियुक्ति करने के निर्देश दिये गये। इसी प्रकार जिला स्तर पर जिला स्तरीय बाढ़ नियंत्रण कक्ष की स्थापना कर जानकारी संबंधित अधिकारी को दिया जाये।

जिला स्तरीय बाढ़ नियंत्रण कक्ष में 6-6 घंटे की शिफ्ट वाईज ड्यूटी के साथ 24 घंटे नियंत्रण कक्ष चालू रखने निर्देशित किया गया। प्रतिदिन की जानकारी जिला कार्यालय को प्रेषित करने हेतु कहा गया।

ताकि जिला कार्यालय से संकलित जानकारी राहत आयुक्त कार्यालय को प्रेषित की जा सके। वर्षामापी यंत्रों का निरीक्षण कर उसके सही कार्य करने संबंधी प्रमाण पत्र प्रस्तुत करने हेतु तहसीलदारों को निर्देशित किया गया।

आगामी मानसून को ध्यान में रखते हुए पहुंचविहीन क्षेत्रों में पर्याप्त मात्रा में खाद्य सामग्री, केरोसीन, जीवन रक्षक दवाईयां आदि की उपलब्धता सुनिश्चित करने मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी और प्रभारी खाद्य अधिकारी को निर्देशित किया गया।

मानसून में पेयजल की शुद्धता एवं स्वच्छता हेतु सभी कुंओं, हैण्डपंप आदि में ब्लीचिंग पावडर एवं क्लोरिनेशन करने कार्यपालन अभियंता लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी को निर्देश दिये गये। मुख्य नगर पालिका अधिकारियों को विभागीय टेंकरों की उपलब्धता व क्रियाशीलता सुनिश्चित करने तथा ब्लीचिंग व क्लोरिनेशन की पर्याप्त व्यवस्था करने निर्देश दिए गए।

नगरीय क्षेत्रों में स्थित सभी नाले व नालियों की सफाई करवाने हेतु मुख्य नगर पालिका अधिकारियों को निर्देश दिये गये। इसी प्रकार संभावित बाढ़ चिन्हित ग्रामों हेतु आवश्यक कार्ययोजना तैयार करने सभी अनुविभागीय अधिकारी एवं तहसीलदारों को निर्देश दिये गये।

विद्युत विभाग के कार्यपालन अभियंता को निर्देशित किया गया कि संभावित बाढ़ग्रस्त क्षेत्रों में खुले असुरक्षित तारों, ट्रांसफार्मर की तत्काल देखरेख की जा कर ऐसी व्यवस्था की जावें ताकि जानमाल की क्षति न हो। बाढ़ के दौरान बचाव हेतु होमगार्ड के जवान, नाव में प्रशिक्षित तैराक व साजो सामान की पूर्व तैयारी रखें।

Back to top button