महिला को धोखे में रखकर, अपने रिश्तेदारों के नाम पर करवाई रजिस्ट्री

मामला पाली तहसील के ग्राम बन बांधा का

अरविंद शर्मा

पाली। आजकल राजस्व विभाग में दलालो की सक्रियता देखने को मिलती है। दलालो और अधिकारियों की मिलीभगत से पंजीयन बड़ी आसानी से हो रहा है। भूमि स्वामी को धोखे में रख अपने रिश्तेदारों के नाम पर रजिस्ट्री करने में भी कोई कसर नही छोड़ रहे हैं।

मामला पाली तहसील के ग्राम पंचायत बनबांधा का है यहाँ से शासन द्वारा राष्ट्रीय राजमार्ग (NH 113) का निर्माण किया जा रहा है।जिसमे कटघोरा अंतर्गत लखनपुर निवासी केलीबाई दुबे पति स्व राममूर्ति दुबे की जमीन खसरा न 123/1रकबा *0.101 भी प्रभावित हुआ है।

आपको बता दे कि महिला बेवा है और अपनी भतीजी रेणु के साथ लखनपुर में निवास करती है। आंगनबाड़ी में सहायका के पद पर काम कर अपना जीवन यापन कर रही है। जैसे तैसे जीवन यापन कर रही केलीबाई के पाव तले जमीन उस समय खिसक गई जब पेपर में आये प्रकाशन में अपना नाम न पाकर अन्य लोगो का नाम होना पाया गया। इतना देखते ही महिला ने इसकी लिखित शिकायत पाली थाने की है।

महिला ने अपनी शिकायत में जिक्र किया है कि गाँव के ही रहने वाले लक्षमन डिकसेना (स्टाम्प वेंडर पाली तहसील) ने बताया था कि जमीन का मुआवजा मिल रहा है मेरे साथ चलना और मुआवजा ले लेना।महिला के बताए अनुसार वह स्टाम्प वेंडर डिकसेना के साथ पाली तहसील आ गई और जब महिला तहसील पहुची तो उससे कई दस्तावेजो पर अँगूठा लगवाया गया और फ़ोटो भी चस्पा किया गया जब महिला ने पूछना चाहा तो यह प्रक्रिया है बोल कर महिला का मुह बंद करा दिया गया।

महिला की भतीजी ने भी जब दस्तावेज पढ़ने चाहे तो उनको भी पढ़ने नही दिया गया और तड़फड़ सब कार्यक्रम निपटा लिया गया। सब होने के पश्चात महिला को चेक के माध्यम से 65000 रु दे दिए गए और यह मुआवजा राशि है बोल कर महिला को रवाना कर दिया गया।

महिला ने बताया है कि उसने न तो जमीन बेची है और ना ही बेचना चाहती है लेकिन झूठ बोलकर तहसील लाया गया और जमीन की रजिस्ट्री करवा ली गई जबकि महिला अंगूठे की बजाए लिखती हैं और रजिस्ट्री में सब जगह अंगूठा लगवाया गया है।

इतना ही नही महिला ने अपनी आपबीती सुनाते हुए बताया कि रजिस्ट्री चार लोगों के नाम पर करवाई गई है जिसमे लष्मन डिकसेना पिता आजुराम डिकसेना निवासी लखनपुर (स्टाम्प वेंडर पाली तहसील),अजहरुद्दीन शेख पिता कमरुद्दीन शेख निवासी कटघोरा (पटवारी पुत्र),अनुभव जायसवाल पिता आनंद जायसवाल रतनपुर (उपपंजीयक पाली का पति) और प्रमोद कुमार पिता खिलावन निवासी नवागांव कटघोरा (अधिग्रहण कार्यालय में पदस्थ बाबू का भाई) आदि शामिल हैं।

इस तरह लगातार बढ़ते अपराधों को देखते हुए पुलिस की क्या कार्यवाही होगी ये देखने वाली बात होगी। आखिर मिल पायेगा पीड़ित महिला को न्याय।

Back to top button