राष्ट्रीय

केजरीवाल के सामने दिल्ली के मुख्य सचिव से बदसलूकी? राजनाथ से मिले अंशु प्रकाश

अंशु प्रकाश को मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने अप्रकाशित विज्ञापनों के मुद्दे पर बातचीत करने के लिए अपने आवास पर बुलाया था

केजरीवाल के सामने दिल्ली के मुख्य सचिव से बदसलूकी? राजनाथ से मिले अंशु प्रकाश

आम आदमी पार्टी (आप) के विधायकों पर दिल्ली के मुख्य सचिव अंशु प्रकाश ने हाथापाई का आरोप लगाया है. जिसके बाद राजधानी में एक बार फिर सरकार और ब्यूरोक्रेसी के बीच घमासान तेज हो गया है. IAS एसोसिएशन ने इस मुद्दे पर उपराज्यपाल अनिल बैजल से शिकायत की. अंशु प्रकाश ने गृहमंत्री राजनाथ सिंह के साथ भी मुलाकात की.
[responsivevoice_button voice=”Hindi Female” buttontext=”अगर आप पढ़ना नहीं
चाहते तो क्लिक करे और सुने”]
इस बीच गृहमंत्रालय ने भी दिल्ली LG से इस मामले में रिपोर्ट तलब की है. हालांकि, मुख्यमंत्री कार्यालय ने इन आरोपों को निराधार और अजीब बताकर खारिज किया है. यह सारी घटना सोमवार रात को मुख्यमंत्री आवास पर घटी. इस बैठक में मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल, उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया समेत कुल 13 विधायक मौजूद थे.

क्या था मामला?

बताया जा रहा है कि अंशु प्रकाश को मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने अप्रकाशित विज्ञापनों के मुद्दे पर बातचीत करने के लिए अपने आवास पर बुलाया था, हालांकि पार्टी का कहना है कि उन्हें राशन पर चर्चा करने के लिए बुलाया गया था. बैठक के दौरान तीखी बहस हो गई थी, तर्क-वितर्क के दौरान दो-तीन आप विधायकों ने उनके साथ हाथापाई की, इसमें मुख्य सचिव का चश्मा भी टूट गया था.

सचिवालय में हुई मारपीट

आम आदमी पार्टी के नेता आशीष खेतान ने आरोप लगाया कि कुछ कर्मचारियों ने सचिवालय में आकर उनके साथ मारपीट की है. मंत्री इमरान हुसैन को भी इस दौरान भीड़ ने घेर लिया था. सचिवालय में लगातार ‘मारो-मारो’ के नारे लगाए जा रहे थे. आशीष खेतान ने इसके बाद दिल्ली पुलिस को मौके पर बुलाया.

विधायकों की गिरफ्तारी की मांग
IAS असोसिएशन ने इस मामले में विधायकों की गिरफ्तारी की मांग की है. IAS एसोसिएशन की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि बैठक में मुख्यमंत्री, उपमुख्यमंत्री की मौजूदगी में इस प्रकार का व्यवहार निंदनीय है.

देवली से आप विधायक प्रकाश जरवाल ने संगम विहार थाने में शिकायत दी है कि दलित परिवार को राशन न मिलने के संबंध में चीफ सेकेट्ररी से सवाल किए तो उन्होंने कहा कि मुझसे सवाल पूछने की तुम्हारी औकात नहीं है.

विधायकों ने आरोप लगाया कि मुख्य सचिव ने उन्हें जातिसूचक शब्दों का इस्तेमाल कर गाली दी और कहा कि आरक्षण से विधायक बन गए हो तुम्हें जवाब देना उचित नहीं है. सिर्फ राज्यपाल को जवाब दूंगा और उन्हें रिपोर्टिंग करूंगा. आप विधायकों ने मुख्य सचिव पर गाली देने का आरोप भी लगाया.

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.