राष्ट्रीय

केरल सरकार ब्रिटेन यूनिवर्सिटी के मदद से स्वास्थ्यसेवा मॉडल में लाएगी बदलाव

लंदन: केरल सरकार ब्रिटेन यूनिवर्सिटी के सहयोग से प्राथमिक देखभाल, प्रशिक्षण एवं अनुसंधान के लिए क्षमता विकास संबंधी समस्याओं को सुलझाने के उद्देश्य से अपने स्वास्थ्यसेवा मॉडल में सुधार करेगी. यह मॉडल ब्रिटेन की सरकारी नेशनल हेल्थ सर्विस (एनएचएस) से प्रेरित होगा. यूनिवर्सिटी ने एक बयान में कहा कि केरल की स्वास्थ्य मंत्री के के शैलजा कुमारी के नेतृत्व में प्रतिनिधिमंडल की मध्य इंग्लैंड में यूनिवर्सिटी ऑफ वार्विक की दो दिवसीय यात्रा कल समाप्त हुई. उन्होंने इस दौरान यह जानने की कोशिश की जनसंख्या बदलाव के कारण पैदा हुए दबावों के लिए किस प्रकार जीपी प्रणाली लागू की गई है.

वार्विक मेडिकल कॉलेज के डीन प्रोफेसर सुधेश कुमार ने कहा कि उनकी टीम यह समझने में राज्य सरकार की सहायता करना चाहती है कि वह प्राथमिक देखभाल के लिए क्षमता विकास और अनुसंधान को अभ्यास में लाने जैसे मामलों से कैसे निपटती है. कुमार ने कहा कि वे केरल के साथ मिलकर काम करना चाहते हैं जिससे दोनों को लाभ होगा.

दो दिवसीय इस आयोजन में वार्विक मेडिकल स्कूल में प्रशिक्षण एवं अनुसंधान के क्षेत्रों जैसे कि शहरी क्षेत्रों में स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं, भारत में प्राथमिक देखभाल और मानसिक स्वास्थ्य संसाधन, जीपी प्रशिक्षण एवं स्नातकोत्तर प्रशिक्षण आदि पर वार्ता हुई.

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.