राष्ट्रीय

केरल – कम्युनिस्ट पार्टी वर्कर की हत्या में आरएसएस के दो कार्यकर्ता गिरफ्तार

घटना के बाद तनाव, सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम

मंजेश्वरम: केरल के कासरगोद जिले के मंजेश्वरम में रविवार (5 अगस्त) की देर रात सीपीआई-मार्क्सवादी पार्टी के कार्यकर्ता की हत्या कर दी गई थी। ये हत्या चाकू और धारदार हथियारों से गोदकर की गई थी। इस हत्या का आरोप बीजेपी-आरएसएस कार्यकर्ताओं पर लगा था। सोमवार (6 अगस्त) को इस मामले में कार्रवाई करते हुए पुलिस ने आरएसएस के दो स्वयंसेवकों को गिरफ्तार किया है।

पुलिस ने बताया कि रविवार की रात मंजेश्वरम थाना क्षेत्र के सोनगल गांव का रहने वाला अबूबकर सिद्दीकी की हत्या हुई थी। ये हत्या रात करीब 11 बजे की गई थी। हत्या के वक्त अबूबकर अपने घर लौट रहा था। उसी वक्त बाइक पर आए हमलावरों ने उसे रोककर चाकू से ताबड़तोड़ वार किए। यद्यपि आसपास मौजूद लोग उसकी चीखें सुनकर मौके पर दौड़कर उसकी मदद के लिए आ गए। लोग अबूबकर को मंगलौर में अस्पताल भी लेकर गए। लेकिन गहरे घावों के कारण उसकी मौत हो गई थी।

पुलिस ने कहा कि दोनों के बीच में शराब की बिक्री को लेकर बहस हुई थी। यही बात जब बढ़ गई तो ये अबूबकर की हत्या का कारण बन गई। पुलिस ने कहा कि जिस आदमी ने अबूबकर को चाकू मारा है, उसकी पहचान अश्वथ के तौर पर की गई है। वह कासरगोद जिले ने सोनकल गांव का ही रहने वाला है। वह कथित तौर पर संघ परिवार से भी जुड़ा हुआ है।

कासरगोद के एसपी श्रीनिवासन ने बताया कि अभी तक हमें इस मामले में राजनीतिक षडयंत्र के सबूत नहीं मिले हैं। हम अभी भी इस घटना के असली कारणों की जांच में जुटे हुए हैं। प्राथमिक तौर पर जो कारण पता चल रहा है वह इलाके में अल्कोहल की सेल को लेकर वर्चस्व का था। हत्या करने वालों के द्वारा प्रयोग की गई बाइक घटनास्थल पर ही लावारिस पाई गई है। ये पाया गया कि हत्या करने वाले संभवत: कर्नाटक भागने की फिराक में थे।

घटना के बाद इलाके में काफी तनाव है। पुलिस ने मीडिया को बताया, तनाव को देखते हुए भारी पुलिस बल मौके पर तैनात किया गया है। चूंकि ये इलाका कर्नाटक से सटा हुआ है, इसलिए भी सुरक्षा के इंतजाम किए गए हैं। युवक की हत्या के बाद सीपीआई ने इसके लिए आरएसएस और बीजेपी के लोगों पर संगीन आरोप लगाए थे। वहीं सोमवार की दोपहर को मंजेश्वरम तालुका में पार्टी ने हड़ताल का भी आयोजन किया था।

jindal