छत्तीसगढ़

खुड़मुड़ा हत्याकांड: घटना स्थल से करीब 1 किलोमीटर दूर मिला पूजा-पाठ की सामग्री के साथ दंपत्ति के कपड़े

आईजी विवेकानंद सिन्हा द्वारा 30 हजार का इनाम की घोषणा

दुर्ग। खुड़मुड़ा हत्याकांड मामले में नया खुलासा हुआ है। घटना स्थल से करीब 1 किलोमीटर दूर पूजा-पाठ की सामग्रियों के साथ दंपत्ति के कपड़े मिले हैं। फॉरेंसिक एक्सपर्ट डॉ. डीके सतपथी ने बताया कि घटना की वजह 55 % तक प्रॉपर्टी विवाद, 40 % घटना दुलारी से जुड़ी हो सकती है।

संदेह के दायरे में आए लोगो से पूछताछ जारी

पुलिस ने वारदात के बाद चारों मृतकों के पूरी कुंडली तैयार कर ली है। चारों के रिश्तेदार, दोस्त, परिवार समेत मिलने जुलने वालों की पूरी जानकारी जुटा ली है। इसके बाद पुलिस ने करीब 10 लोगों को संदेह के दायरे में रखा है। इनमें सोनकर परिवार के चार सदस्य है। इनके साथ वारदात के एक दिन पहले गंगाराम के खेत में काम करने वाले 6 मजदूर भी है। जिन्होंने घटना वाले दिन मंडी में जाकर धान बेच रात 9 बजे तक जमकर शराब पी थी।

आईजी विवेकानंद सिन्हा द्वारा 30 हजार का इनाम की घोषणा

पुलिस के लिए अब यह घटना अनसुलझी पहली बनते जा रही है। पुलिस का अनुमान है कि कई महीने पहले पूरी प्लानिंग की गई। पुलिस की एक टीम खुड़मुड़ा गांव समेत आस पास के गांव में साइकिल मालिकों की भी जानकारी जुटा रही है। फॉरेंसिक एक्सपर्ट ने दोबारा दावा किया है कि वारदात में कम से कम तीन लोग शामिल थे। 4 लोगो की नृशंस हत्याकांड के आरोपियो का सुराग देने वालो को दुर्ग रेंज के IG विवेकानंद सिन्हा द्वारा 30 हजार का ईनाम दिया जायेगा सूचना देने वाले का नाम गोपनीय रखा जायेगा,पुलिस अधीक्षक प्रशांत ठाकुर पूर्व मे ही 10 हजार इनाम की घोषणा कर चुके है वारदात के 10 दिन बाद भी आरोपियो के संबंध मे पुलिस के हाथ खाली है पुलिस को अब तक वारदात के कारणो का भी पता नही चल पाया है पुलिस ने आज तक 211 लोगो से इस वारदात के संबंध मे पूछताछ कर चुकी है इस मामले मे पुलिस के मुखबिर भी सफलता से कोसो दूर है पुलिस IG व पुलिस अधीक्षक के नेतृत्व मे लगातार मामले का खुलाशा करने मे एडी चोटी एक किये हुए है,फिलहाल पुलिस अधीक्षक ने दावा किया है कि आरोपी पकडे जायेगे पुलिस की पूरी टीम एक सूत्र मे इस हत्याकांड का खुलासा करने मे दिन रात एक किये हुए है।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button