आजादी का मतलब ISIS से मुक्त हुई महिलाओं से जानिए

किसी की गुलामी के मुक्त होना शायद दुनिया की सबसे बड़ी खुशी होती है. हाल ही में आईएसआईएस के चंगुल से मुक्त हुई एक महिला का वीडियो सामने आया है. जिसमें वह महिला पहले तो उसे छुड़ानेवाली महिला सैनिकों को गले लगाती है, फिर उसके माथे को चूमती है. खुशी से चिल्लाने लगती है. देखते ही देखते वह उस कपड़े को फाड़ देती है जो उसने चंगुल में रहने के दौरान पहने थे.

दि इंडिपेंडेंट नामक अंग्रेजी वेबसाइट पर जारी रिपोर्ट के मुताबिक सीरियाई शहर में आईएसआईएस का आंतक अब अंतिम चरण में है. शहर को बहुत जल्द दुनिया के सबसे खतरनाक आतंकी संगठन से जल्द ही मुक्त करा लिया जाएगा.

यह वीडियो सीरिया के राका शहर की है. रिपोर्ट के मुताबिक सीरिया में कभी जिहादियों के गढ़ रहे राका से इस्लामिक स्टेट समूह के सभी सीरियाई लड़ाके से जा चुके हैं और अब विदेशी लड़ाकों के इस स्थान को छोड़कर जाने की तैयारी चल रही है.
आतंकी संगठन का सफाया है अंतिम चरण में

अमेरिका नीत गठबंधन ने शनिवार (14 अक्टूबर) को कहा कि पिछले एक दिन में इस्लामिक स्टेट समूह के दर्जनों लड़ाकों ने रक्का में आत्मसमर्पण किया है. एक समय रक्का उन लड़ाकों का गढ़ होता था.

गठबंधन ने एएफपी को भेजे एक ईमेल में कहा कि पिछले 24 घंटों में करीब 100 आईएसआईएस आतंकवादियों ने रक्का में आत्मसमर्पण किया है और उन्हें शहर से हटा दिया गया है.
इसमें कहा गया है कि विदेशी लड़ाकों को रक्का छोड़ने की अनुमति नहीं दी जा रही है. इसके पहले शनिवार (14 अक्टूबर) को दिन में, ब्रिटेन स्थित सीरियाई ऑब्जवेटरी फॉर ह्यूमन राइट्स ने
कहा कि सभी सीरियाई आईएस जिहादी रक्का में अपने पूर्व गढ़ से अपने परिवारों के साथ चले गये हैं. ऐसे जिहादियों की संख्या करीब 200 है.

साल 2014 में सीरिया में आईएसआईएस नामक आतंकी संगठन का कब्जा हो गया था. इसके बाद अमेरिकी सेना सहित कई अन्य देशों के सैनिकों ने मिलकर इसके खिलाफ लड़ाई शुरू कर दी. हाल के दिनों में स्थानीय लोगों ने भी इस आतंकी संगठन के खिलाफ बंदूकें उठा ली है.
यह बात कई बार सामने आ चुकी है कि आतंकी महिलाओं, लड़कियों का पहले अपहण करते हैं. इसके बाद उनके साथ बलात्कार किया जाता है.

Back to top button