बड़ी खबरराष्ट्रीय

जानें क्या है और कैसे होगा? दिल्ली में आज से शुरू होने वाला सीरोलॉजिकल सर्वे

राष्ट्रीय रोग नियंत्रण केंद्र और दिल्ली सरकार द्वारा संयुक्त रुप से 14 दिन तक चलने वाला यह सर्वे 10 जुलाई को पूरा होगा।

नई दिल्ली। कोरोना संक्रमण का पता लगाने के लिए दिल्ली के सभी 11 जिलों में आज यानी शनिवार से सीरोलॉजिकल सर्वे शुरू हो रहा है। इससे यह पता चलेगा कि दिल्ली में कितनी फीसदी आबादी को कोरोना संक्रमण हुआ और उसे पता भी नहीं चला और वह ठीक हो गया। इसे एंटीबॉडी सर्वे भी बोलते हैं।

इससे यह भी पता चलेगा कि दिल्ली की कितनी प्रतिशत आबादी कोरोना से महफूज है। राष्ट्रीय रोग नियंत्रण केंद्र और दिल्ली सरकार द्वारा संयुक्त रुप से 14 दिन तक चलने वाला यह सर्वे 10 जुलाई को पूरा होगा। इसमें दिल्ली में अलग-अलग वर्ग और आयु के 20,000 लोगों के ब्लड सैंपल लेकर जांच की जाएगी।

सर्वे के आधार पर बनेगी नई रणनीति

इसका उद्देश्य यह भी पता लगाना है कि संक्रमण कम्युनिटी में कितना फैला है ताकि इसको रोकने के लिए नए सिरे से रणनीति बनाई जाए और आने वाले समय में मरीजों की संख्या का अनुमान लगाकर अस्पताल समेत अन्य सुविधाएं बढ़ाई जा सके। एनसीडीसी सर्वे में जिले की जनसंख्या के अनुसार सैंपल लेगा। इसके लिए एनसीडीसी ने सभी 11 जिलों में अपने नोडल अधिकारी पहले ही नियुक्त कर दिए हैं। सर्वे जिला उपायुक्त की देखरेख में होगा।

जानें कैसे होगा सर्वे-

कम्युनिटी में कितना संक्रमण फैला है इसका पता लगाने के लिए राष्ट्रीय रोग नियंत्रण केंद्र दिल्ली सरकार की मदद से सीरो सर्वे शुरू कर रहा है। इसका मकसद संक्रमण के फैलाव का पता लगाकर उसको रोकने के लिए रणनीति बनाना है।

साथ ही आने वाले समय की जरूरत के अनुसार कोरोना मरीजों के लिए बिस्तर का इंतजाम करना है। सभी 11 जिलों में इसे आज से शुरू किया जा रहा है।

सर्वे की रिपोर्ट के आधार पर दिल्ली में कोरोना संक्रमण की तैयारी को बदला जाएगा।

आवश्यकता के अनुसार अस्थाई अस्पताल तैयार किए जाएंगे। साथ ही उसके अनुसार ही श्मशान घाट और कब्रिस्तान बनाए जाएंगे।
जनसंख्या के अनुसार सैंपल की संख्या तय होगी। साथ ही सैंपल महिला-पुरुष और अलग-अलग आयु वर्ग के अनुसार एकत्रित किए जाएंगे।
दिल्ली सरकार की तरफ से सर्वे टीम में संबंधित इलाके की आशा कार्यकर्ता और आंगनवाड़ी कार्यकर्ता के साथ ही सैंपल के लिए ब्लड निकालने के लिए प्रशिक्षित नर्स और लैब टेक्नीशियन होंगे।

सर्वे टीम के पास सैंपल लेने के लिए सहमति लेने के फॉर्म के साथ ही एक जानकारी भरने के लिए फॉर्म होगा। इसके बाद संबंधित की सहमति मिलने के बाद 5 से 10 एम एल ब्लड सैंपल के लिए लिया जाएगा। इसे एनसीडीसी की लैब में भेजा जाएगा।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button