एक-दूसरे को जानना है बेहतर तो जरुर जाएँ न्यूली मैरेड कपल्स हनीमून ट्रिप पर

शादी के बाद दूल्हा-दुल्हन सबसे ज्यादा एक्साइटिड अपने हनीमून को लेकर होते हैं।

आखिर हो भी क्यों ना हनीमून पर कपल्स ना सिर्फ एक-दूसरे को बेहतर तरीके से जान पाते है बल्कि इस दौरान उन्हें करीब आने का मौका भी मिलता है।

मगर इसके अलावा भी कई ऐसे कारण है, जिसकी वजह से न्यूली मैरेड कपल्स हनीमून पर जाते हैं। चलिए आज हम आपको बताते हैं आखिर क्यों शादी के बाद हनीमून पर जाते हैं कपल्स।

एक-दूसरे को जानने का मिलता है मौका

हनीमून शादी के बाद का एक ऐसा पीरियड होता है, जब कपल्स को एक- दूसरे के करीब आने का सबसे अच्छा टाइम मिलता है

और वो दोनों एक- दूसरे के साथ क्वालिटी टाइम स्पेंड करते हैं। शादी के बाद कपल्स एक- दूसरे के साथ जो समय बिताते हैं

बातें शेयर करना

हनीमून पर कप्लस के बीच ना ही तो परिवार होता है और ना किसी बात की टेंशन। ऐसे में वह खुलकर एक-दूसरे से बात करते और अपनी बातें शेयर करते है और एक-दूसरे के पसंद-नापसंद को जानने की कोशिश करते हैं।

साथ ही वह अपने सारे गिले-शिकवे या परेशानियों को भी एक-दूसरे से शेयर कर आगे की लाइफ के बारे में प्लान करते हैं।

शादी के शुरूआती दिनों को और भी खास बनाना

हनीमून पर जाना एक रोमेंटिक ट्रिप होता है। हनीमून किसी भी कपल के लिए एक खूबसूरत पल होता है, इसे लोग ताउम्र याद करते हैं।

तो ऐसी ही खूबसूरत यादों को संजोने के लिए लोग हनीमून पर जाना पसंद करते हैं। अगर आपकी भी शादी होेने वाली है, तो हनीमून ट्रिप जरूर प्लान करें।

बढ़ती है नजदीकियां

कई लोगों के लिए हनीमून का मतलब केवल शारीरिक संबंध बनाना होता है। जबकि ऐसा बिल्कुल भी नहीं है। नए शादीशुदा जोड़ियों की मानें तो वो हनीमून पर एक-दूसरे को करीब से जानने के लिए जाते हैं।

हनीमून शादीशुदा जिंदगी को शुरू करने से पहले वार्मअप का काम करती है। वहीं एक-दूसरे को ज्यादा टाइम देने से उनके बीच नजदीकियां भी बढ़ती है।

शादी की थकावट दूर करने के लिए

भारत में शादियों के रीति-रिवाज बहुत लंबे होते है और इसी वजह से दोनों को थकावट भी बहुत ज्यादा हो जाती है।

ऐसे में शादी के बाद हनीमून ट्रिप दूल्हा-दुल्हन को काफी रिलैक्स कर देता है।

सारे भीड़- भड़ाके से दूर हनीमून पर कपल्स एक-दूसरे को टाइम भी देते हैं और आराम भी कर लेेते हैं।

ससुराल वालों को जानने का मौका

अरेंज मैरेज में हनीमून पर जाना काफी फायदेमंद होता है। लव मैरेज में तो कपल एक-दूसरे को अच्छी तरह से जानते हैं लेकिन अरेंज मैरेज में ऐसा नहीं होता।

अरेंज मैरेज में कपल शादी के बाद जब हनीमून पर जाते हैं तो वह एक-दूसरे को जानने के साथ ही ससुराल वालों के बारे में भी खुलकर बातें करते हैं, जिससे पत्नी को बाद में कोई प्रॉब्लम नहीं होती।

1
Back to top button