कोण्डागांव : 11 वां राष्ट्रीय मतदाता दिवस का आयोजन होगा 25 जनवरी 2021 को

राष्ट्रीय मतदाता दिवस 25 जनवरी 2021 के अवसर पर ई-एपिक की शुरआत किया जावेगा ताकि मतदाताओं को आसानी से सूचना उपलब्ध करवाई जा सके।

कोण्डागांव, 20 जनवरी 2021 : कार्यालय उपनिर्वाचन अधिकारी द्वारा विज्ञप्ति अनुसार भारत निवार्चन आयोग नई दिल्ली के निर्देशानुसार प्रति वर्ष की भांति इस वर्ष भी 25 जनवरी 2021 को 11 वां राष्ट्रीय मतदाता दिवस का कार्याक्रम प्रत्येक मतदान केन्द्र, तहसील एवं जिला मुख्यालय स्तर पर आयोजित किया जाना है। इस कार्य हेतु वर्ष 2021 के तहत् राष्ट्रीय जिला कार्यालय, कोण्डागांव के सभाकक्ष में तथा प्रत्येक तहसील मुख्यालय में भी किया जावेगा।

11 वें राष्ट्रीय मतदाता दिवस

भारत निर्वाचन आयोग नई दिल्ली द्वारा 11 वें राष्ट्रीय मतदाता दिवस 25 जनवरी 2021 हेतु पंचवाक्य ‘सभी मतदाता बनें सशक्त, सतर्क, सुरक्षित एवं जागरूक‘ निर्धारित किया गया है। राष्ट्रीय मतदाता दिवस 25 जनवरी 2021 के अवसर पर ई-एपिक की शुरआत किया जावेगा ताकि मतदाताओं को आसानी से सूचना उपलब्ध करवाई जा सके।

ई-एपिक

ई-एपिक को मोबाईल पर डाउनलोड किया जा सकेगा तथा कम्प्यूटर पर स्वयं मुद्रित करने योग्य रूप में होगा। ई-एपिक में ही मतदाता का क्रम संख्या, भाग संख्या, विधानसभा क्षेत्र का नाम, पता अत्यादि अंकित होगा। भारत निर्वाचन आयोग का उददेश्य इस समारोह के माध्यम से मतदाताओं में मतदान के प्रति जागरूकता पैदा करने एवं वयस्क मतदाताओं को अपने मताधिकार की अवधारणा से फलीभूत अवगत कराना है। जिससे मतदाता, पंजीकरण एवं मतदान प्रक्रियाओं के संबंध में अवगत होते हुए अपने मताधिकारों से परिचित हो सकें।

राष्ट्रीय मतदाता दिवस के अवसर पर 25 जनवरी 2021

मतदाता दिवस के अवसर पर ऐसे मतदाता जिन्होने अर्हता तिथि 01 जनवरी 2021 की स्थिति में 18 वर्ष की आयु पूर्ण कर अपना नाम मतदाता सूची में शामिल करा लिया है उन्हे राष्ट्रीय मतदाता दिवस के अवसर पर 25 जनवरी 2021 को मुख्य अतिथि द्वारा निःशुल्क पी.वी.सी कार्ड प्रदाय कर सम्मानित किया जावेगा। इसके अतिरिक्त उत्कृष्ट कार्य करने वाले बूथ लेबल अधिकारियों तथा शासकीय महाविद्यालयों में नियुक्त प्रोफेसर कार्य करने के लिए मुख्य अतिथि द्वारा सम्मानित होंगें।

साथ ही कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी पुष्पेन्द्र कुमार मीणा द्वारा अपील की गई है, कि इस राष्ट्रव्यापी कार्यक्रम में महिलाओं एवं युवाओं के अलावा शारीरिक रूप से अशक्त मतदाताओं एवं तृतीय लिंग के मतदाताओं के साथ ही साथ अलग-थलग पड़े मानव समूहों के मतदाताओं को विशेष रूप से सम्मिलित करने पर जोर दिया जाए। ताकि उनकों मतदान प्रक्रियाओं से जोड़ा जा सकें और इसका अधिक से अधिक प्रचार प्रसार होना चाहिए।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button