कोरबा/बैरा/प्रतिबंध के बावजूद रेत के अवैध उत्खनन पर नहीं लग रहा अंकुश/एनजीटी के नियम ताक पर, भरी बरसात नदी से खनन कर अवैध भंडारण

नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल के निर्देशों की धज्जियाँ उड़ा प्रतिदिन 50 से 100 ट्रैक्टर अवैध रेत का किया जा रहा भंडारण

कोरबा : कोरबा जिले में रेत का अवैध उत्खनन,परिवहन, एवम भंडारण लगातार जारी है. कोरबा जिले के पोड़ी उपरोड़ा ब्लाक के ग्राम बैरा बम्हनी नदी रेत खदान में धड़ल्ले से रेत का खनन कर भंडारण किया जा रहा है. बता दें कि एनजीटी के नियम अनुसार बरसात में रेत का खनन और परिवहन दोनों ही पूरी तरह से वर्जित है. बावजूद इसके खनन माफिया लगातार यहां आकर रेत का अवैध उत्खनन कर रहे हैं. इस पूरे खेल में प्रसाशन की मुक़दर्शिता संदेहास्पद नजर आ रही है।

नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल 

उल्लेखनीय है कि नदियों से रेत निकालने को लेकर नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल (एनजीटी) के निर्देशों के पालन में 15 अक्टूबर तक खनन प्रतिबंधित रहता है। नदियों में अन्य जीवों को नुकसान की दृष्टि से लगाए इस प्रतिबंध का असर जिले की नदियों में नहीं दिख रहा है।जिले के ग्रामीण क्षेत्रों में शासन और नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल के निर्देशों की धज्जियाँ उड़ाते हुए रेत खोदी जा रही है,

रेत का अवैध उत्खनन जोर-शोर से चल रहा है…बैरा बम्हनी नदी से हर दिन 50 से100 ट्रैक्टर रेत का अवैध उत्खनन कर अवैध भंडारण किया जा रहा है.!! जानकारों के मुताबिक विभागीय उदासीनता के कारण ही जिले में रेत माफिया की सक्रियता बढ़ रही है. किसी भी तरह की ठोस कार्रवाई नहीं होने से अवैध रेत उत्खनन का कारोबार तेजी से फल-फूल रहा है. वही हाल ही में पोड़ी उपरोड़ा एसडीएम के निर्देश पर बैरा रेत माफिया पर कार्रवाई की थी. तब अधिकारियों ने मौके से कुछ वाहनों को भी जब्त किया था…

जिसके बाद रेत माफिया में हड़कंप मचा हुआ था, रेत माफिया कुछ समय तक शांत रहे. लेकिन उसके बाद अब फिर अवैध उत्खनन का काम जोरों पर है. ..नदी से रेत को निकालकर अवैध रेत भंडारण किया जा रहा है ..हैरानी की बात ये है खनिज विभाग के अधिकारियों को इसकी जानकारी होने के बावजूद भी कोई कार्रवाई नहीं की जा रही है.!

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button